जेएनएन, चंडीगढ़। होशियारपुर के 13 वर्षीय अभि वर्मा की हत्या के दोषियों जसबीर सिंह और विक्रम सिंह की फांसी की सजा को बरकरार रखते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने दोनों की दया याचिकाएं खारिज कर दी हैं। जस्टिस जितेंदर चौहान की पीठ ने दोनों की याचिकाएं खारिज करते हुए उन्हें फांसी दिए जाने का रास्ता खोल दिया है।

पटियाला जेल में बंद जसबीर और विक्रम ने एडवोकेट जीके मान के माध्यम से दायर की गई याचिका में मृत्युदंड दिए जाने में देरी के चलते अपने मृत्युदंड की सजा को आजीवन कारावास में बदले जाने की मांग की थी। पंजाब के राज्यपाल ने दोनों की दया याचिकाएं खारिज कर दी थी। इसके बाद दोनों ने हाईकोर्ट का रुख किया था। अपनी याचिका में दोनों ने कहा था कि राज्यपाल ने जेल में एकांत में तीन साल बिताने की बात पर संज्ञान नहीं लिया।

गौरतलब है कि 14 फरवरी, 2005 को अभि वर्मा का फिरौती के लिए अपहरण हुआ था। अगले दिन उसका शव होशियारपुर से 20 किलोमीटर दूर मिला था। मामले में जसबीर सिंह वालिया, उसकी पत्नी सोनिया व विक्रम सिंह को होशियारपुर की कोर्ट ने 21 दिसंबर, 2006 को फांसी की सजा सुनाई थी।

जसबीर की पत्नी सोनिया की फांसी को बदला था उम्र कैद में

तीनों हत्यारों की ओर से हाईकोर्ट में की गई अपीलों पर हाईकोर्ट ने सोनिया की फांसी को उम्रकैद में तबदील कर दिया था, जबकि विक्रम सिंह और जसवीर सिंह की फांसी की सजा को बरकरार रखा था। हाईकोर्ट की ओर से 25 सितंबर, 2012 को दोनों के डेथ वारंट जारी कर दिए गए थे। दोनों को पहले 5 अक्टूबर, 2012 को फांसी लगाने के आदेश दिए गए थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट में उनकी अपीलों की सुनवाई और बाद में राष्ट्रपति के पास दया याचिकाओं के विचाराधीन होने के चलते दोनों को फांसी नहीं दी जा सकी।

तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अगस्त, 2016 में उनकी दया याचिकाएं खारिज कर दी थीं। दोनों को 25 अक्टूबर, 2016 को फांसी दी जानी थी पर फांसी पर चढ़ाए जाने से सिर्फ 24 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट ने 24 अक्टूबर, 2016 को एक बार फिर उनकी फांसी के आदेशों को क्रियान्वित करने पर रोक लगा दी थी।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!