-कैप्टन, जाखड़ व अकाली दल के तीखे हमलों के चलते बैकफुट पर गए आप नेता

-आप ने भी कहा, इस मुद्दे पर खैहरा के साथ नहीं है पार्टी

-खैहरा बोले, मैंने कभी नहीं किया अलग सिख राज्य का समर्थन

---

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़: अलग सिख राज्य मांग को लेकर गर्मख्यालियों की ओर से चलाए जा रहे अभियान 'रेफरेंडम 2020' का समर्थन करने पर विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा बुरी तरह घिर गए हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अरविंद केजरीवाल इस मामले में पार्टी का स्टैंड स्पष्ट करने की मांग की है। वहीं, अकाली दल ने खैहरा के खिलाफ पर्चा दर्ज करने की माग की है। वहीं, खैहरा के बयान को गंभीरता से लेते हुए आम आदमी पार्टी के राज्य सह-अध्यक्ष डॉ. बलबीर सिंह ने कहा कि पार्टी खैहरा से स्पष्टीकरण मांगेगी। वहीं, चौतरफा घिरने के बाद खैहरा ने शनिवार को बयान जारी कर कहा कि मैंने कभी अलग सिख राज्य की माग को लेकर 'रेफरेंडम 2020' का समर्थन नहीं किया। मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि आजादी से लेकर सफल सरकारों के पीछे सिखों की कुर्बानियों को कभी नहीं भुलाया जा सकता।

गौरतलब है कि फरीदकोट जिले के बरगाड़ी में बेअदबी मामले को लेकर चल रहे गर्मख्यालियों के धरने में खैहरा ने 'रेफरेंडम 2020' का समर्थन किया था। खैहरा ने कहा कि पंजाब की कीमत पर हिमाचल प्रदेश व हरियाणा को ज्यादा लाभ मिला। 1966 में सिख मोर्चा की ओर से पंजाबी स्पीकिंग स्टेट की माग उठाई गई, लेकिन उसे लेकर भी न्याय नहीं मिला। पानी के बंटवारे में हरियाणा व राजस्थान को लाभ मिला। ऑपरेशन ब्लू स्टार, 1984 के सिख दंगे, आपरेशन ब्लू स्टार के बाद विरोध करने वाले सैकड़ों सिख आज भी विदेश में रह रहे हैं। वह अपने देश वापस नहीं आ सकते। खैहरा ने प्रकाश सिंह बादल, सुखबीर सिंह बादल व बिक्रम सिंह मजीठिया को कठघरे में खड़ा किया है। नेता प्रतिपक्ष व विधायक पद से इस्तीफा दें खैहरा: जाखड़

काग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ ने कहा है कि खैहरा को तत्काल प्रभाव से नेता प्रतिपक्ष के पद से हटा देना चाहिए। जाखड़ ने माग की है कि खैहरा को विधायक पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। अलग सिख राज्य को लेकर खैहरा का बयान संवैधानिक तौर पर गलत है और विधायक के तौर पर ली गई शपथ को तोड़ने वाला है। यह देश की एकता व अखंडता के लिए खतरे की घटी है। गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के समय केजरीवाल ने भी गर्मख्याली नेता के घर में रुकने के बाद विवादों में आ गए थे।

---

कोट

खैहरा के बयान के पीछे या तो पार्टी प्रधान अरविंद केजरीवाल का हाथ है या फिर यह उनका व्यक्तिगत बयान हो सकता है। केजरीवाल भी विस चुनाव के दौरान कट्रपंथियों का समर्थन लेने के मामले में बेनकाब हो चुके हैं। आप को इस मामले में अपना स्टैंड स्पष्ट करना चाहिए।

-अमरिंदर सिंह, मुख्यमंत्री पंजाब

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!