जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी (AAP) चंडीगढ़ के राष्ट्रीय सह प्रभारी प्रदीप छाबड़ा ने भाजपा, कांग्रेस और नगर निगम के अधिकारियों पर कई आरोप लगाए हैं। उन्होंने निगम अधिकारियों समेत भाजपा और कांग्रेस के पार्षदों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि शहर की सफाई के लिए लायंस कंपनी को तीन महीने के लिए फिर से ठेका बढ़ाने का फैसला मतलब भ्रष्टाचार है। पार्षदों और अधिकारियों की मिलीभगत के कारण ठेका बढ़ाया गया है। लायंस कंपनी के साथ अनुबंध बढ़ाने का फैसला नगर निगम में एजेंडा लाकर किया जाना था, लेकिन ऐसा न कर सीधा कंपनी का ठेका तीन महीने के लिए बढ़ाने का मतलब भ्रष्टाचार है। इसकी सीधे तौर पर सिटिंग जज से इंक्वायरी की जानी चाहिए और सभी पार्टियों के पार्षदों व नगर निगम के अधिकारियों की मिलीभगत की जांच होनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा शासित नगर निगम में पिछले पांच सालों में करोड़ों रुपये के घोटाले हुए हैं। इन सभी की पूरी तरह से जांच होनी चाहिए।

छाबड़ा ने कहा कि हम लगातार इस मुद्दे को उठा रहे हैं। नगर निगम के पास गाड़ियों में तेल डालने के लिए डेढ़ करोड़ रुपये पेमेंट करने के लिए राशि नहीं है, वह 13 करोड़ रुपये ठेका सफाई कंपनी को दे रहा है। आम आदमी पार्टी ये मांग करती है कि सफाई कर्मचारियों की नगर निगम सीधी भर्ती करें और लायंस कंपनी का ठेका रद किया जाए। ऐसा करने से नगर निगम में भ्रष्टाचार कम हो सकेगा। वहीं, उन्होंने यह भी कहा कि शहरवासियों पर थौपे गए करोड़ों रुपये के टैक्स से जमा पैसों का निगम दुरपयोग कर रहा है। चंडीगढ़ की जनता परेशान हैं और पार्षद और अफसर मजे कर रहे हैं।

छाबड़ा ने दावा किया कि इस बार नगर निगम चुनाव में आम आदमी पार्टी जीतेगी। निगम में आप का मेयर बनेगा, जिसके बाद भ्रष्टाचार को खत्म किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शहरवासियों का उनकी पार्टी को समर्थन मिल रहा है। ऐसे में इस बार उनकी पार्टी बहुमत के साथ नगर निगम में अपना मेयर बनाएगी।

Edited By: Ankesh Thakur