जागरण संवाददाता, मोहाली : मोहाली इंटरनेशनल एयरपोर्ट रोड पर विकसित हो रहे एयरोसिटी सेक्टर में बन रही निर्माणाधीन कोठियों में रहने वाले लोगों से शुक्रवार देर रात लूट होने का मामला सामने आया है। रात साढे़ 12 से ढाई बजे तक 6 लुटेरों ने जमकर उत्पात मचाया और वहा बन रही निर्माणाधीन 3 कोठियों व एक झुग्गी में सो लोगों को अपना निशाना बनाया। एक ठेकेदार पर कुल्हाड़ी से हमला कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया। ठेकेदार रामकृष्ण यादव इस समय सेक्टर-32 अस्पताल में भर्ती हैं, जहा उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। लुटेरे इन कोठियों में सो रहे लोगों के 6 मोबाइल, 32 हजार कैश, ब्राडेड जूते व कपड़े लूटकर फरार हो गए। सोहाना पुलिस जाच कर रही है। एक को जख्मी कर दो को रस्सी से बांधा

लुटेरे रात साढे़ 12 बजे कोठी नंबर 5221 में घुसे, जहा ठेकेदार रामकृष्ण यादव कमरे में सो रहा था, जबकि उनका बेटा रुपेश यादव व एक अन्य कर्मी रणजीत यादव ऊपर सो रहे थे। लुटेरे जैसे ही कोठी में दाखिल हुए, उन्होंने ठेकेदार से नकदी मागी, परंतु ठेकेदार रामकृष्ण उनसे भिड़ गया। लुटेरों ने उनके सिर पर कुल्हाड़ी से वार कर जख्मी कर दिया। शोर सुनकर ठेकेदार का बेटा व रणजीत यादव ऊपर से नीचे आ गए, जिन्हें अन्य लुटेरों ने वहा पड़ी रस्सी से बाध दिया। तीनों के मोबाइल, 20 हजार रुपये ठेकेदार से व 4-4 हजार दोनों से छीन ले गए। घायल को बाद में सेक्टर-32 अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। आठ फुट ऊंचा गेट फांदा, 2 ने बाहर दिया पहरा

इसके बाद 4 लुटेरे कोठी नंबर-5276 में 8 फुट ऊंचा लोहे का गेट फादकर घुसे, जबकि दो बाहर पहरा देते रहे। कोठी में तैनात शम्मी कुमार ने बताया कि कोठी के मालिक गौरव पीरमुछल्ला (जीरकपुर) में रहते हैं, वे यहां बतौर केयरटेकर रह रहे हैं। उनके साथ बीती रात उनके दो दोस्त सुशील व सुमित भी थे। ढाई बजे सोते समय एक लुटेरे ने कुल्हाड़ी उनकी गर्दन पर रखी और जान से मारने की धमकी देते हुए मोबाइल व नकदी छीन ली और जाते समय बाहर से कुंडी लगाकर कमरे में बंद कर गए। पास बैठकर फोन करवाया फोरमेंट, अंदर ही बदले कपडे़

शम्मी ने बताया कि लुटेरों की दहशत से वह काफी डर गए। उन्होंने उनके तीनों फोन छीन लिए, उनकी जेब में पड़े 2700 रुपये निकाले, एक ब्राडेड डिजिटल घड़ी, जूते व जैकेट छीन ली। लुटेरों ने तीनों फोनों को उन्हीं से फोरमेंट करवाया और सिम निकालकर उन्हें पकड़ा दी। जाने से पहले लुटेरे अपने फटे पुराने जूते छोड़ गए और उनके वुडलैंड व बाटा के शूज पहन कर चले गए। इससे पहले उन्होंने उसी के कमरे में लूटे हुए कपड़े बदले। चिट्टा है तो बता लगाएं महफिल

शम्मी ने बताया कि लुटेरे देखने में काफी हट्टे-कट्टे थे, परंतु वे ध्यान बंटाने के लिए बातें नशे की कर रहे थे। उनके कमरे में एक बुझी हुई सिगरेट देखकर एक लुटेरा बोला कि चिट्टा है, तो बता यहीं लगाएं महफिल। फिर जाते समय लुटेरा शम्मी को बोला भाई नशे के आदी हैं, इसलिए क्राइम करते हैं। लैपटॉप ले जाने लगे, नौकरी जाने का हवाला देकर छुड़वाया

शम्मी का दोस्त सुमित आइटी कंपनी में काम करता है, जिसका लैपटॉप भी वहा पड़ा था। लुटेरे उसका लैपटॉप भी साथ ले जा रहे थे, परंतु सुमित उनके सामने गिड़गिड़ाया कि इसमें उनकी कंपनी का डाटा है, इसलिए उसकी नौकरी चली जाएगी। जिसके बाद वह लैपटॉप वहीं छोड़ गए। लेबर महिला ने बच्चे की खाई कसम, फिर किया यकीन

यहा लूट के बाद कोठी नंबर-53 में लुटेरे घुसे, जहा एक लेबर महिला अलका अपने पति रंजन दास के साथ सोई हुई थी। लुटेरों ने उसे उठाकर गर्दन पर चाकू लगा दिया और नकदी मागी। अलका ने बताया कि उनके पास दो हजार रुपये ही थे, जोकि दे दिए। परंतु वे और नकदी की माग करने लगे, जब उन्होंने अपने बच्चे की कसम खाई, तो वे उनके पति के जूते लेकर उन्हें कमरे में बंद कर गए। हमने शिकायत ले ली है, जांच कर रहे हैं।

तिरलोचन सिंह, एसएचओ, सोहाना

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!