जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। कोरोना की दूसरी लहर ने पिछले साल लोगों से खुशी के मौके छीन लिए। तय की गई शादी को टालना पड़ा। जो शादियां हुईं वह भी पाबंदियों के बीच हुई। आयोजकों के मन में यह मलाल रहा कि वह अपने दिलोंअजीज को शादी में न्योता तक नहीं दे पाए। लेकिन जिन लोगों ने पिछले साल शादी या दूसरे कार्यक्रम टाल दिए थे।

अब ऐसा करने की सोच रहे हैं तो उनके लिए खुशखबरी है। यह आयोजक अब कार्यक्रम हर्षोल्लास से आयोजित कर सकते हैं। अपने हर खास को न्योता देकर दावत दे सकते हैं। प्रशासन ने अब शादियों, पार्टियों, सामाजिक कार्यक्रमों, एग्जीबिशन जैसे इवेंट में शामिल होने वाले लोगों की संख्या को 200 से बढ़ाकर 300 कर दिया है। अब इतने लोगों की मेहमाननवाजी हो सकती है।

कोविड नियमों का रखना होगा ध्यान

गेस्ट संख्या बेशक बढ़ा दी गई है लेकिन कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन नहीं किया तो कार्रवाई होगी। प्रशासन ने स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी तरह के सामाजिक कार्यक्रम में मास्क पहनना अनिवार्य होगा। साथ ही उचित दूरी का ध्यान भी रखना होगा। ऐसा नहीं करने पर अगर कोई निरीक्षण के लिए टीम मौके पर पहुंचती है तो कार्रवाई होगी। हालांकि अब यह ढील दी गई है कि इस तरह के कार्यक्रमों के लिए औपचारिक मंजूरी लेने की जरूरत नहीं है। नियमों के तहत कार्यक्रम बिना मंजूरी भी किए जा सकते हैं। बशर्ते किसी तरह के कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन न हो। 

अक्टूबर से शुरू हो रहा शादी सीजन

अक्टूबर में नवरात्र शुरू हो रहे हैं। नवरात्र से फेस्टिवल सीजन की शुरुआत हो रही है। इस दौरान शादियों का सिलसिला भी शुरू हो जाएगा। इसके बाद सर्दियों में शादियों के लिए बहुत से शुभ मुहुर्त हैं।

Edited By: Ankesh Thakur