जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। Chandigarh MC House Meeting: नगर निगम में 29 अक्टूबर को होने वाली सदन की बैठक काफी अहम है। इससे जहां नगर निगम शहर में चल रहे धोबीघाट के लिए नीति लेकर आ रहा है वहीं वेंडर्स की लाइसेंस फीस में छूट देने का प्रस्ताव आ रहा है। इसके साथ ही शहर की रेजिडेंट्स वेलफेय एसोसिएशन की ओर से रखरखाव किए जा रहे पार्कों का शुल्क बढ़ाने का प्रसताव आ रहा है।असल में नगर निगम चुनाव को देखते हुए यह राहत दी जा रही है।

नगर निगम की सदन की बैठक में धोबीघाटों को भी लेकर भी नई नीति पास होने के लिए आ रही है। इसके तहत हर धोबीघाट से हर माह 50 हजार रुपये का रेंट लिया जाएगा। इसका हर साल दस फीसद किराया भी बढ़ेगा। किसी भी रिहायशी एरिया में धोबीघाट नहीं होगा। अगर कोई ऐसा करता है तो हर माह किराया भी चार्ज किया जाएगा। धोबीघाट की बाउंड्री वॉल भी कपड़े सूखाने के लिए प्रयोग नहीं होगी ऐसा होने पर 500 रुपये जुर्माना चार्ज किया जाएगा। हर धोबीघाट का लाइसेंस तीन साल के लिए बनाया जाएगा इसके बाद नगर निगम की संतुष्टता के बाद उसे रिन्यू किया जाएगा। धाेबीघाट की अलॉटमेंट ड्रा की ओर से होंगे। ड्रा में सिर्फ रजिस्टर्ड धोबी या प्रेसमैन एसोसिएशन से जुड़े होने चाहिए। बिजली और पानी का बिल भी अलग से चार्ज होगा। इस समय नगर निगम के इंजीनियरिंग विंग की ओर से धोबीघाटों को रेनोवेशन करने के लिए अलग से प्रस्ताव तैयार हो चुका है। जिसके अलग से पास होने के लिए सदन में लाया जाएगा। इस समय सेक्टर-7,15,19,20,22,27 और 32 में धोबीघाट हैं।

पार्कों के रखरखाव का रेट बढ़ेगा

इस समय शहर के कई पार्क रखरखाव के लिए रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशनों को दिए हुए हैं। एसोसिएशन रखरखाव के लिए मिलने शुल्क को बढ़ाने की मांग लंबे समय से कर रहे हैं। ऐसे में सदन में 2.48 स्केयर मीट से रेट बढ़ाकर 4 रुपये 15 पैसे करने का प्रस्ताव चर्चा के लिए आ रहा है। इसके अलावा कोरोना समय के दौरान की लाइसेंस फीस माफ करने का प्रस्ताव भी आ रहा है जिससे वेंडर्स को राहत दी जाएगी। इसके साथ ही कोविड के समय की लाइसेंस फीस में राहत देने का प्रस्ताव आ रहा है। यह राहत पेड पार्किंग चलाने वाले ठेकेदारों को दी जाएगी।इसके साथ ही एमओएच विंग के तीसरे और चौथी श्रेणी के कर्मचारियों को गुड़ और सरसो का तेल देने का प्रस्ताव पास होने के लिए आ रहा है।

Edited By: Ankesh Thakur