मोहाली [रोहित कुमार]। PSEB 8th & 10th Results Declared: पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (पीएसइबी) ने सोमवार को आठवीं व दसवीं के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए हैं। परीक्षा परिणाम pseb.ac.in पर चेक किया जा सकता है। बोर्ड के उप चेयरमैन वरिंदर भाटिया ने बताया कि बोर्ड परीक्षा परिणाम इंटरनल असेसमेंट के आधार पर घोषित किए हैं। इस बार बोर्ड की ओर से स्टूडेंट्स को ग्रेड के साथ प्रतिशत भी दिया गया है। कोविड महामारी के चलते इस बार भी बोर्ड परीक्षाओं की ओर से मेरिट घोषित नहीं की गई।

बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में तीन लाख 21 हजार 384 स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी, जिनमें से तीन लाख 21 हजार 163 बच्चे पास हुए। दसवीं का परीक्षा परिणाम 99.93 प्रतिशत रहा। लड़कियों का पास प्रतिशत 99.64 रहा, जो कि लड़कों .02 फीसद ज्यादा रहा। वहीं शहरी के मुकाबले ग्रामीण स्टूडेंट्स का प्रदर्शन बेहतर रहा।

यह भी पढ़ें: पंजाब में गोबर से बनेगी बिजली, गैस भी होगी तैयार, जर्मन तकनीक का होगा इस्तेमाल

वहीं आठवीं की परीक्षा में तीन लाख 7 हजार 272 स्टूडेंट्स थे, लेकिन तीन लाख 6 हजार 893 ने बोर्ड की परीक्षा दी, जो स्टूडेंट्स कोविड व अन्य कारणों से परीक्षा नहीं दे सके उनको मौका दिए जाने की बात बोर्ड अधिकारियों की ओर से कहीं गई। आठवीं में ग्रामीण व शहरी परीक्षा परिणाम बराबर रहा, लेकिन लड़कियों ने बाजी मारी।

यह भी पढ़ें: ओवरलोड हुई पंजाब की जेलें, 90 दिन की छुट्टी पर भेजे जाएंगे 3600 सजायाफ्ता कैदी, प्रक्रिया शुरू

बोर्ड की ओर इस बार इ ग्रेड भी शुरू किया गया है। आठवीं में 257 स्टूडेंट्स अनक्वालिफाइड रहे। आठवीं में 857 स्टूडेंट्स फेल हुए है। ओपन स्कूल 9341 में से 2007 स्टूडेट्स जिन की दो विषयों में कपार्टमेंट थी उनका पास कर दिया गया है, जबकि बाकी की परीक्षा बाद में ली जाएगी। 73 स्टूडेंट्स का रिजल्ट स्कूलों की ओर से अपग्रेड नहीं किया गया। जबकि छह स्टूडेंट्स का रिजल्ट लेट है। बोर्ड के उपचेयरमैन ने कहा कि पीएसइबी ने सबसे पहले परिणाम घोषित किए है ताकि स्टूडेंट्स को आगे दाखिला लेने में दिक्कत न हो। 

यह भी पढ़ें: चंडीगढ़ में अंतिम संस्कार के लिए भी अपोइंटमेंट, श्मशान घाट में आग बुझने से पहले ही अगली चिता तैयार

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की ओर से बारहवीं की परीक्षाएं ली जाएंगी या नहीं इस पर बोर्ड अधिकारियों ने कहा कि इस बारे में अभी कुछ भी कहना मुश्किल है। सीबीएसई व अन्य बोर्ड की ओर से इस मामले को लेकर एक जून को फैसला लेना है। जिसको लेकर बैठक है। सरकार की ओर से जो भी गाइडलाइन आएगी उसी हिसाब से आगे फैसला होगा।

यह भी पढ़ें: पंजाब में कैप्टन व सिद्धू में चल रहा है शह-मात का खेल, हाईकमान चुप, नवजोत के पक्ष में उतरे मंत्री रंधावा

बोर्ड के उपचेयरमैन ने कहा कि सरकार अगर ऑनलाइन परीक्षा, ऑफलाइन या इंटरनल असेसमेंट के आधार पर जैसे भी रिजल्ट तैयार करने को कहेगी उसी हिसाब से रिजल्ट देने के लिए बोर्ड पूरी तरह से तैयार है, लेकिन अभी बारहवीं की परीक्षा को लेकर कुछ भी नहीं बताया जा सकता। उपचेयरमैन ने बताया कि जो स्टूडेंट्स अपने परीक्षा परिणाम से संतुष्ट नहीं होंगे और परीक्षा देना चाहेगें। उन को कोविड का माहौल ठीक होने के बाद परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा। इस पर बाद में फैसला लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: हरियाणा में 1 वर्ष में 6,500 सरकारी कर्मचारियों की छंटनी, करीब 20 विभागों में गई नौकरी

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप