शंकर सिंह, चंडीगढ़ : 21 दिन का लॉकडाउन, ये जरूरी भी है और इसकी महता बताना भी। ऐसे में घर में रहकर मैंने 21 मुखी कछुए को बनाया। इसमें कछुए के 21 चेहरे हैं, जिसमें 19 चेहरों को खोल के अंदर दिखाया जाएगा। ताकि बताया जा सके कि घरों में रहना कितना जरूरी है। वरिष्ठ स्क्ल्प्चर हृदय कौशल कुछ इन्हीं शब्दों में अपने नए स्क्ल्प्चर पर बात करते हैं जिसे इन दिनों वे पंचकूला स्थित अपने घर में तैयार कर रहे हैं। बोले कि इसकी अभी सेटिपेलिग तकनीक से ड्राइंग तैयार की हैं, इसके बाद इसे पत्थर पर तराश रहा हूं। कछुआ मेरा पसंदीदा विषय है, इसी पर मैंने अनेकों काम किए हैं। इस बार मैंने कछुए के 21 चेहरे डिजाइन किए हैं। जिसमें दो चेहरे बाहर की ओर कोरोना को झांक रहे हैं और ये बता रहे हैं कि कोरोना बिल्कुल हमारे सिर के ऊपर है, ऐसे में कछुए का खोल, यानी कि घर ही हमें बचा सकता है। वे कछुए के ऊपर कोरोना वायरस के डिजाइन को भी बनाएंगे। जिससे ये साबित हो सके कि ये ठीक हमारे ऊपर है, ऐसे में घरों के अंदर रहने में ही फायदा है। छह फीट का बनाएंगे स्क्ल्प्चर

कौशल ने कहा कि अभी वो पत्थर के दो तरह के स्क्ल्प्चर तैयार कर रहे हैं। इसमें एक बड़ा स्क्ल्प्चर छह फीट का होगा। जिस पर वह जल्द ही काम शुरू करेंगे। वह इसका छोटा स्वरूप डेढ़ फीट का बना रहे हैं जिसे वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट करेंगे। इससे पहले कौशल ने गुजरात में भी काम किया जहां उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के स्वागत के लिए स्क्ल्प्चर तैयार किए थे। इसके अलावा कौशल का स्क्ल्प्चर रोज गार्डन-16 और सेक्टर-17 को जोड़ने वाले अंडरपास में भी सजाया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!