जेएनएन, चंडीगढ़। New motor vehicle act 2019 लागू होने के बाद हर चालक अब यही सोचता है कि उसका चालान न कट जाए, लेकिन क्या हो अगर अपना चालान भुगतने कोर्ट गए व्यक्ति को यह पता जाए कि उसके 189  चालान पेंडिंग हैं। कुछ ऐसा ही हुआ चंडीगढ़ में। 

सेक्टर-39 निवासी संजीव अपना चालान भुगतने के लिए जिला अदालत में गए। बीती 26 जुलाई को उनका प्रतिबंधित यू टर्न का चालान कटा था। यह चालान 300 रुपये का था। इसको भरने के लिए जब वह जिला अदालत गए तो कर्मचारियों से पता चला कि रिकॉर्ड के मुताबिक उनके अभी पहले से ही 189 चालान पेंडिंग पड़े है। सभी चालान वर्ष 2017 से लेकर जुलाई 2019 तक के हैंं। यह सभी अलग-अलग ऑफेंस के थे। सभी ऑफेंस सड़काें पर लगे CCTV में कैद हो गए और ट्रैफिक वॉयलेशन इनर्फोमेशन स्लिप (टीवीआइएस) के जरिए ये चालान कटते रहे।

संजीव ने बताया कि वह एक इंश्योरेंस कंपनी में काम करते है। नए नियम लागू होने के बाद बहुत ध्यान से बाइक चलाते हैंं, लेकिन वह इस बात से हैरान हैं कि उनके इतने चालान पेंडिंग पड़े हैंं। अगर ऐसा था तो इसके बारे में उनकों कोई जानकारी नहीं मिली। बकौल संजीव उन्होंने डेढ़ साल पहले ही सेकेंड हैंड बाइक खरीदी है। 

इस संबंध में जब एसएसपी ट्रैफिक पुलिस शशांक आनंद से बात की गई तो उन्होंने बताया कि आनलाइन चालान काटे जाने की व्यवस्था वर्ष 2018 से लागू की गई थी, जबकि संजीव के चालान वर्ष, 2017 से पेंडिग बताए जा रहे हैंं। यह तकनीकी खराबी की वजह से हो रहा है। इसको जल्द ही सही कर दिया जाएगा। टीवीआइएस के जरिए जो चालान कटता है उसका मैसेज तभी रजिस्टर्ड मोबाइल पर भेज दिया जाता है। अगर तब भी उस व्यक्ति को पता नहीं चलता तो उसे नोटिस भेज दिया जाता है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!