राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। मौजूदा सुरक्षा स्थिति के मद्देनजर पंजाब पुलिस के अलग-अलग रैंकों के लगभग 135 गजटेड अफसरों को राज्यभर में किसी भी किस्म की आतंकवादी या अपराधिक गतिविधि को रोकने के लिए नाइट डोमिनेशन आपरेशन के लिए तैनात किया गया है। पंजाब के डीजीपी इकबाल प्रीत सिंह सहोता ने बताया कि उपमुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह रंधावा के आदेशों का पालन करते हमने राज्यभर में रात की गश्त तेज कर दी है।

बता दें, उपमुख्य मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने मंगलवार को अमृतसर में क्राइम रिव्यू (अपराध समीक्षा) बैठक की अध्यक्षता करते हुए पुलिस फोर्स को राज्यभर में रात की गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए थे, जिससे कानून व्यवस्था बनाए रखने को यकीनी बनाया जा सके। बुधवार-वीरवार की रात उप मुख्यमंत्री ने रात की गश्त के लिए तैनात गजटेड अफसरों को खुद अचानक काल कर यह यकीनी बनाया कि वह अपने काम पर मौजूद हैं या नहीं।

पंजाब सरकार ने रात्रि गश्त का कदम ऐसे समय में उठाया है जब राज्य में हथियारों के साथ-साथ हैंड ग्रेनेड और टिफिन बमों की बरामदगी हो रही है। हाल ही में राज्य में सीआइए नवांशहर और पठानकोट के छावनी क्षेत्र में दो बम धमाके होने के अलावा जीरा क्षेत्र से एक बिना चले हैंड ग्रेनेड बरामद किया गया था।

डीजीपी ने बताया कि हरेक पुलिस पुलिस जिले को सेक्टरों में बांटा गया है। हरेक सेक्टर के लिए डीएसपी या एसपी रैक का एक गजटेड अफसर तैनात किया गया है, जो अपने अधिकार क्षेत्र में रात की गश्त को यकीनी बनाएंगे। उन्होंने कहा कि रुटीन नाकों या वाहनों की चेकिंग के अलावा, तैनात किए गए अफसरों को संवेदनशील स्थानों जैसे कि रेलवे स्टेशनों, बस स्टैंडों, धार्मिक स्थानों, आरएसएस शाखाओं और और महत्वपूर्ण स्थानों पर भी चौकसी रखने के निर्देश दिए गए हैं।

इस दौरान पुलिस कमिश्नरों, एसएसपी को भी संवेदनशील क्षेत्रों में जाने व घूमने वाले शकी व्यक्तियों की तरफ विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए हैं। डीजीपी ने सीपीज/एसएसपीज को सभी पीसीआर/आरआरपीए वाहनों और बुलेट प्रूफ मोर्चों का प्रयोग संवेदनशील स्थानों को कवर करने साथ-साथ सभी कंट्रोल रूमों को सक्रिय करने के आदेश दिए।

Edited By: Kamlesh Bhatt