जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : जिला अदालत ने युवती को शादी का झांसा दे उसके साथ शारीरिक संबंध बनाने वाले व्यक्ति को दस साल कैद की सजा सुनाई है। साथ ही उस पर एक लाख पांच हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है। दोषी की पहचान सेक्टर-26 निवासी विनोद यादव के रूप में हुई है। अदालत ने दोषी को धोखाधड़ी और दुष्कर्म मामले में यह सजा सुनाई है। बता दें कि विनोद पहले से ही शादीशुदा है और उसका पांच साल का बच्चा भी है। वहीं, बचाव पक्ष की वकील का कहना है कि मामले में विनोद को फंसाया गया था। अदालत में उन्होंने सुनवाई के दौरान कहा था कि अगर युवती से दुष्कर्म 2017 में हुआ था तो एफआइआर एक साल बाद जून 2018 में क्यों करवाई गई। घर ले जाकर भी किया था दुष्कर्म

दर्ज मामले के मुताबिक सात जून, 2018 को सेक्टर-19 थाना पुलिस में युवती ने शिकायत दर्ज करवाई थी। युवती ने बताया था कि 19 थाने के अंतर्गत पिछले पांच साल से नौकरी कर रही थी। वहीं पर विनोद भी काम करता था। 2017 में उसकी जान पहचान विनोद से हुई। विनोद ने उसे अपने प्यार के जाल में फंसा लिया और शादी का झांसा दे उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। इसके बाद तीन से चार बार अपने घर पर भी लेकर गया और वहां पर भी उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया। लेकिन जब उसने विनोद से शादी करने की बात कही तो विनोद ने मना कर दिया और कहने लगा कि वह तो पहले से ही शादीशुदा है। युवती की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर विनोद को गिरफ्तार किया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!