संवाद सहयोगी, ब¨ठडा

समय के साथ-साथ बच्चो और परिजनों में बढ़ रहे कम्युनिकेशन गैप को खत्म करने के लिए आर्ट ऑफ लि¨वग के संस्थापक श्री-श्री रवि शंकर जी द्वारा 'जाने अपने बच्चों को' नाम से पेरेंट्स के लिए विशेष कोर्स तैयार किया गया हैं। संस्था के सुमित अरोड़ा ने बताया कि श्री-श्री रवि शंकर जी द्वारा बच्चों की मानसिक स्थिति, वर्ताव के तरीके, टीनएजर्स में उम्र के साथ आते बदलावों के मद्देनजर रखते हुए मां बाप अपने बच्चों को कैसे बेहतर तरीके से जान सकते हैं, उसके लिए माता पिता के लिए वर्कशॉप आयोजन विशेष रूप से ब¨ठडा में रविवार 6 मई को सिविल लाइन क्लब में 12 साल तक के बच्चो के लिए सुबह 10 से 12 बजे तक 12 से 18 साल तक के बच्चो के लिए शाम 5 से 7.30 बजे तक किया जा रहा है। इस वर्कशॉप के माध्यम से टीचर नीतू अरोड़ा, निधि गुप्ता व सुमित अरोड़ा द्वारा मां बाप को बच्चों से आपसी तालमेल बढ़ाने, बच्चों को समझने, पढ़ाई व खेलकूद में उनकी हर गतिविधि पर विनम्रता से नजर रखने व तालमेल बढ़ाने में सहायक होगा। यह कोर्स पेरेंट्स के लिए बनाया गया है कोर्स का उद्देश्य आज की पीढ़ी में बढ़ रही दूरी को खत्म कर एक अच्छे व सजग समाज का निर्माण करना हैं, जिसके लिए आर्ट ऑफ लि¨वग की टीम कार्य कर रही है जो भी इस वर्कशॉप को करना चाहते हैे, वी आर्ट ऑफ लि¨वग के किसी भी कार्यकर्ता से संपर्क कर सकते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!