जागरण संवाददाता बठिडा: पर्यावरण का संदेश देने के लिए भारत भ्रमण पर निकले केरल के तीन युवक 42 दिन की यात्रा पूरी करके सोमवार को बठिडा पहुंचे। उन्होंने अपनी साइकिल यात्रा के मकसद के बारे में बताया कि देश में पर्यावरण सबसे बड़ी समस्या बनता जा रहा है। या तो लोग जागरूक नहीं हैं या फिर सब कुछ जानते हुए भी अनजान बन रहे हैं।

उन्होंने बताया कि लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए उन्होंने 15 अगस्त को आजादी दिवस के मौके पर अपना सफर केरल के मल्लकपुरम से शुरू किया था। इसके बाद वे कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा आदि राज्यों में होते हुए पंजाब पहुंचे। रिजवान ने पंजाब व पंजाबियों की सराहना करते हुए कहा कि पंजाब के लोग दिलदार लोग हैं। अब तक के सफर में सबसे अच्छा रिस्पांस उनको पंजाब से ही मिला है। पंजाब का जो भी व्यक्ति उनको मिला है, वह बिना कुछ खिलाए-पिलाए उनको नहीं जाने देता। उनको पंजाब में बहुत सारे बाइकर मिले, जिन्होंने उनका स्वागत ही नहीं किया बल्कि रहने के लिए जगह भी दी। इससे पहले वे अन्य राज्यों में पेट्रोल पंपों पर ही रात गुजारते आए हैं।

अर्शद व मुवीन ने बताया कि वे तीनों ही छात्र हैं और केरल की खेतीबाड़ी युनिवर्सिटी में कोर्स कर रहे हैं। पढ़ाई के समय ही उनके मन में ख्याल आया कि पूरे देश में पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए साइकिल यात्रा की जाए। अब वे पंजाब से होते हुए जम्मू, कश्मीर व फिर लेह पहुंचेंगे। बठिडा पहुंचने पर द बाइक स्टोर पर बठिडा साइक्लिस्ट्स एंड रनर्ज की ओर से उनका भव्य स्वागत किया गया और उनको सम्मानित किया गया। यहां चरनजीत सिंह मठाडू, कृष्ण गर्ग, रोहित अरोड़ा, लखविदर सिंह, जसवंत कौशिक, कर्नल ज्ञान सिंह सिद्धू आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran