नितिन सिगला,बठिडा

कई लोगों की जिदगी की डोर काट चुकी प्लास्टिक डोर बसंत पंचमी से पहले शहर में धड़ल्ले से बिकनी शुरू हो गई है। दुकानदारों ने प्लास्टिक डोर बेचने का जुगाड़ ढूंढ़ लिया है। पुलिस से बचने के लिए वे नए ढंग से प्लास्टिक डोर बेच रहे हैं। दुकान में डोर न रखकर, उन्होंने घर में या आसपास कहीं गोदाम लेकर उसमें स्टाक रखा होता है। जितनी चाहिए वह गट्टू लाकर आसपास खड़ी एक्टिवा या फिर स्कूटर की डिग्गी व दुकान के आस-पड़ोस में रखे होते हैं। ग्राहक आने पर उससे पैसे ले लिए जाते हैं, और फिर कुछ मिनट बाद गली या चौक पर ग्राहक को बुला कर उसे काले रंग के लिफाफे में गट्टू डिलीवर कर दिए जाते हैं ताकि पता न चले कि लिफाफे में क्या है। पतंगों की दुकानों की आड़ में चोरी-छिपे चाइना डोर को धड़ल्ले से बेचा जा रहा है। प्रतिबंध के कारण कोई सामने से इस डोर को नहीं बेचता, लेकिन इसके लिए अस्थाई गोदाम, वाहनों की डिक्की या साथ की दुकानों का सहारा लिया जाता है। इन जगहों पर बड़े स्तर पर प्लास्टिक डोर रखी जाती है और ग्राहक की डिमांड के अनुसार उसे आगे डिलीवर किया जाता है। जानलेवा चाइना डोर से अब बेजुबान पक्षी ही नहीं, लोग भी चपेट में आने लगे हैं। भारत में कई लोग प्लास्टिक डोर के कारण मौत के मुंह में जा चुके हैं। इसके साथ यह डोर कई लोगों के गले काट चुकी है। इसे देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया था। आनलाइन या व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर भी बेची जानलेवा डोर प्लास्टिक डोर बेचने वाले पुलिस से बचने के लिए नए-नए हथकंडे अपनाते हैं। पिछले साल तो आनलाइन प्लास्टिक डोर भी बिकनी शुरू हो गई थी। डोर बेचने वालों ने मोना काइट मांझा, मोनो काइट के नाम से फेसबुक पर पेज बनाकर नंबर दिए हुए थे, जिस पर संपर्क करने पर बुकिग के बाद 24 घंटे बाद आन डिमांड डिलीवरी हो जाती थी। इसके साथ ही कुछ सप्लायरों ने व्हाट्सएप गु्रप भी बनाए थे जिसमें सिर्फ उनके विश्वास पात्र लोग होते थे, उनके जरिए डोर आगे सप्लाई की जाती थी। कई लोग हो चुके हैं प्लास्टिक डोर के शिकार

कातिल डोर मानी जाने वाली प्लास्टिक की डोर से कई लोग घायल हो चुके हैं। इस डोर के कारण कई हादसे भी हुए हैं। अगर पिछले कुछ सालों का आंकड़ा देखा जाए तो प्लास्टिक डोर से हुए हादसों की लिस्ट बहुत लंबी है जिसमें कई लोगों को अपनी जान तक गंवानी पड़ी थी। कहीं बिक रही हो चाइना डोर तो करें पुलिस को सूचित

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस चाइना डोर के खिलाफ सर्च आपरेशन कर रही है। पुलिस की तरफ से चल रहे व्यापक स्तर पर अभियान की वजह से कई स्थानों पर छापेमारी भी की जा रही है। कोई भी व्यक्ति प्लास्टिक डोर की बिक्री के बारे में सूचित करेगा तो उसका नाम व पता गुप्त रखा जाएगा व आरोपियों पर तुरंत सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran