जागरण संवाददाता, बठिडा: पंजाब रोडवेज व पीआरटीसी के कच्चे मुलाजिमों की ओर से छह सितंबर से शुरू की गई हड़ताल नौ दिन बाद पंजाब सरकार के साथ हुई मीटिग के बाद खत्म हो गई है। अब बुधवार के रुटीन में बसें चलेंगी, जिससे यात्रियों को काफी राहत महसूस हुई है।

मीटिग में मुलाजिमों को पंजाब सरकार ने भरोसा दिया है कि 10 साल से विभाग में काम कर रहे मुलाजिमों को पक्का कर दिया जाएगा और सभी मुलाजिमों के वेतन में 30 फीसद की बढ़ोतरी की जाएगी। इसके बाद मुलाजिमों ने हड़ताल को खत्म करते हुए बुधवार से रूटीन में बसों को चलाने का ऐलान कर दिया है। यह जानकारी यूनियन के प्रधान संदीप सिंह ने दी। मुलाजिमों की हड़ताल के कारण बसों के बंद रहने से अकेले बठिडा डिपो को ही नौ दिन में डेढ़ करोड़ रुपये का नुकसान हो गया। हालांकि अधिकारी तर्क दे रहे हैं कि बसों के कम चलने के कारण डीजल की खपत कम होने से खर्च भी घटा है, लेकिन पीआरटीसी को नुकसान जरूर हुआ है। जिले में फिर मिले कोरोना के चार मरीज मंगलवार को जिले में फिर चार मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पाजिटिव आई। इनमें एक साल का बच्चा और आठ साल की बच्ची भी शामिल है। यह चारों मरीज बठिडा कैंट के निवासी हैं और एक परिवार के सदस्य हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार मंगलवार तक जिले में एक्टिव केसों की संख्या 18 है, जिनमें घरेलू एकतावांस में 17 मरीज हैं। अब तक जिले में 41660 कोरोना मरीज मिल चुके हैं, जबकि 40601 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं 1041 मरीजों की मौत हो चुकी है। कोरोना के नए मरीजों को लेकर असमंजस मंगलवार को जिले में कोरोना के नए मरीजों को लेकर असमंजस बना रहा। दरअसल, शाम चार बजे से तक डीसी के माध्यम से लोक संपर्क विभाग ने रिपोर्ट जारी कर कहा कि जिले में कोई भी नया केस नहीं मिला है, जबकि शाम चार बजे फरीदकोट मेडिकल कालेज ने रिपोर्ट जारी कर चार मरीजों की पुष्टि कर दी। अधिकारियों का कहना है कि इससे पहले दो बजे आई रिपोर्ट में कोई नया मरीज नहीं था। शाम चार बजे नए मरीजों की रिपोर्ट जारी की गई, इसलिए यह स्थिति पैदा हुई है।

Edited By: Jagran