जागरण संवाददाता, बठिडा: पंजाब स्टेट मिनिस्ट्रीयल सर्विस यूनियन की ओर से शुरू की गई हड़ताल के तहत बुधवार को पंजाब के चेयरमैन मेघ सिंह सिद्धू व जिला प्रधान राजवीर सिंह की अगुआई में चिल्ड्रन पार्क में धरना लगाया गया।

इस दौरान मुलाजिमों द्वारा 6वें पे कमीशन की कमियों को दूर करने, वेतन बढ़ोतरी करने, डीए के बकाया देने, दीवाली से पहले 28 फीसद डीए देने, प्रोबेशन समय बंद करने, साल 2016 के बाद भर्ती हुए मुलाजिमों को 6वें पे कमिशन में दूसरे मुलाजिमों की तरह 15 फीसद की बढ़ोतरी देने, कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर जसविदर सिंह, गुरचरन सिंह, गुरप्रीत सिंह, परमजीत सिंह, निशू गर्ग, हरप्रीत सिंह, गुणदीप कुमार, बलदेव सिंह, गगनदीप सिंह, अशोक कुमार, बलजिदर सिंह, हरप्रीत सिंह, अनूप गर्ग, केवल कृष्ण, मनप्रीत सिंह, गुरप्रीत सिंह, सुरजीत सिंह, गुरसेवक सिंह आदि उपस्थित थे। किसानों ने तलवंडी साबो में भी फाड़े मुख्यमंत्री के पोस्टर किसानों ने तलवंडी साबो में भी मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के पोस्टर फाड़े और काला तेल भी डाला। इसके अलावा पंजाब सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। किसान जगदेव सिंह, बिदर सिंह, कुलविदर सिंह ने कहा कि चन्नी सरकार ने किसानों मजदूरों को कैप्टन अमरिदर सिंह की तरह धोखे में रखा है। यदि सरकार वादे पूरे न किए तो संघर्ष तेज किया जाएगा।

वहीं गुलाबी सुंडी के कारण प्रभावित हुई नरमा की फसल का मुआवजा लेने के लिए तीन दिन से जिला प्रबंधकीय कांप्लेक्स का घेराव करके बैठे किसानों ने बुधवार को शहर में लगे पंजाब सरकार के बैनर फाड़ दिए। बसों पर लगे प्रचार के फ्लेक्स पर कालिख पोत दी। किसान रोष मार्च निकालते हुए बस स्टैंड पहुंचे, जहां उनकी पीआरटीसी के अधिकारियों के साथ बहस भी हुई।

अपने संघर्ष के तीसरे दिन बुधवार को भी किसानों ने जिला प्रबन्धकीय कांप्लेक्स में धरना जारी रखा। दोपहर 12 बजे के करीब किसानों ने यूनियन के महासचिव सुखदेव सिंह कोकरी कलां की अगुआई में रोष मार्च निकालना शुरू किया। रोष मार्च करते हुए किसान बस स्टैंड के बाहर पहुंचे और वहां लगे होर्डिंग्स फाड़े डाले। इसके बाद पूरे शहर में मार्च निकालते हुए जहां भी पंजाब सरकार के फ्लेक्स नजर आए, उन्हें फाड़ दिया। साथ ही बसों पर लगे होर्डिग्स पर भी कालिख पोत दी। किसानों के मार्च के कारण शहर के लोग ट्रैफिक की समस्या से जूझते रहे।

Edited By: Jagran