नितिन सिगला,बठिडा

शहर में 100 फीसद शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध करवाने के लिए साल 2015 में 288 करोड़ रुपये की लागत से सीवरेज एंड वाटर सप्लाई प्रोजेक्ट शुरू किया गया। इसके तहत मानसा रोड स्थित ग्रोथ सेंटर में नए वाटर ट्रीटमेंट प्लांट (डब्ल्यूटीपी) के लिए एसएंडएस (सेडिमेंटेशन एंड स्टोरेज) टैंकों का निर्माण किया जाना था। हालांकि यह काम सात साल बाद अधर में लटका हुआ है। स्टोरेज टैंकों की खोदाई ही शुरू हो पाई है। हालांकि यह काम भी अधर में लटक गया है। कारण, नगर निगम बठिडा ने खनन विभाग से मंजूरी लिए बिना ही स्टोरेज टैंकों की खोदाई शुरू करवा दी। अब माइनिंग विभाग ने नगर निगम को नोटिस जारी कर पहले मंजूरी लेने की बात कही है। इसके तहत न सिर्फ काम रुकवा दिया गया है, बल्कि अब तक की गई खोदाई की वसूली करने की बात भी कही गई है। हालांकि नगर निगम कमिश्नर का तर्क है कि यह सरकारी काम है। इसके लिए मंजूरी की जरूरत नही।

दरअसल, स्टोरेज टैंकों के लिए खोदाई का काम जुलाई 2021 में एक ठेकेदार को सौंप दिया गया था। सूत्रों की मानें तब से ही ठेकेदार खोदाई कर जगह से मिट्टी निकाल रहा है और उसे बाजार में बेच रहा है। अब इसकी भनक खनन विभाग को लगी तो विभाग की टीम ने मौके का जायजा लिया। वहां तुरंत काम बंद करवा दिया और बठिडा नगर निगम को एक नोटिस जारी कर दिया। कहा गया कि पहले मंजूरी ली जाए। इसके साथ ही अब तक बिना मंजूरी के की गई खोदाई के लिए निगम से जुर्माना भी वसूल किया जाएगा। 15 अगस्त 2020 को पूर्व वित्त मंत्री ने किया था वाटर ट्रीटमेट प्लांट का उद्घाटन

मानसा व डबवाली रोड पर बसे एरिया व इलाके के लोगों को पीने का पानी उपलब्ध करवाने के लिए मानसा रोड स्थित ग्रोथ सेंटर में बनाए गए डब्ल्यूटीपी के लिए एसएंडएस टैंकों का निर्माण किया जाना है। इनके निर्माण पर करीब 7.5 करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं। वहीं 2.19 करोड़ रुपये वाटर ट्रीटमेंट प्लांट पर खर्च किए जा चुके हैं। इस वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का 15 अगस्त 2020 को पूर्व वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने उद्घाटन किया था। करीब एक साल बाद निगम ने जुलाई 2021 को एसएंडएस टैंकों का निर्माण कार्य शुरू करवाने के लिए इसकी खोदाई करने का काम ठेकेदार वरिंदर कुमार कांट्रैक्टर को जारी किया था। ठेकेदार ने इसे छह माह में मुकम्मल करने का लक्ष्य निर्धारित किया, लेकिन 10 माह बीत जाने के बाद एक भी टैक की खोदाई नहीं हो सकी है। नगर निगम बनाम माइनिंग विभाग यह सरकारी काम, मंजूरी की जरूरत नहीं

खनन विभाग ने निगम को कोई नोटिस जारी नहीं किया है, सिर्फ खोदाई का काम बंद करवाया है। हालांकि यह काम सरकारी है, इसलिए इसकी माइनिंग विभाग से कोई मंजूरी लेने की जरूरत नहीं है। अब नगर निगम अधिकारी माइनिंग विभाग से तालमेल कर रहे हैं ताकि रोके गए काम को दोबारा से शुरू करवाया जा सके।

- डा. पल्लवी, कमिश्नर नगर निगम बठिडा। मंजूरी लेने के बाद ही शुरू होगा काम

विभाग को शिकायत मिली थी कि अवैध खनन हो रही है। टीम मौके पर पहुंची तो वहां कोई मौजूद नहीं था। साइट पर खोदाई की गई थी, जिसके लिए नगर निगम ने विभाग से कोई मंजूरी नहीं ली। इसलिए निगम को नोटिस भी जारी किया गया है। साथ ही अब तक की गई खोदाई की जांच कर उसका जुर्माना भी वसूल किया जाएगा। मंजूरी लेने के बाद ही काम शुरू होगा।

- नवदीप सिंह, एसडीओ खनन विभाग बठिडा।

Edited By: Jagran