जासं, बठिडा : 21 अक्टूबर, 1959 में हॉट स्प्रिंग्स लद्दाख के दुर्गम क्षेत्र में भारतीय पुलिस के जवानों की एक टुकड़ी के जवान शहीद हो गए थे। इन वीरों के बलिदान को याद करने के उद्देश्य से प्रति वर्ष 21 अक्टूबर को देश के कोने-कोने में शहीद शूरवीरों की स्मृति में पुलिस शहीद दिवस मनाया जाता है। ये बात आइजी बठिडा रेंज अरूण कुमार मित्तल ने कहीं। वह सोमवार को पुलिस लाइन में पुलिस शहीद दिवस पर आयोजित श्रद्धांजलि समारोह के दौरान शहीद पुलिस जवानों के परिवारों को संबोधित कर रहे थे। इससे पहले आइजी के अलावा जिला सेशन जज कंवलजीत सिंह लांबा, डिप्टी कमिश्नर बठिडा बी श्रीनिवासन व एसएसपी बठिडा डॉ. नानक सिंह समेत पुलिस अधिकारियों ने शहीद पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की और दो मिनट का मौन रखा। इसके बाद आइजी मित्तल ने कहा कि ये वह शहादत है जो आम लोगों की सुरक्षा के लिए हमारे मुलाजिमों ने ऐसे समय में दी जब पूरा प्रदेश आतंकवाद से जूझ रहा था। शहीदों की तरफ से दी ये कुर्बानी तभी कामयाब है जब सब मिलकर इसे बरकरार रखे। मौके पर शहीद पुलिस जवानों के परिवारों को सम्मान दिया। समागम में 59 शहीद पुलिस अधिकारियों ने विशेष तौर पर शिरकत की। वहीं एसएसपी डॉ. नानक सिंह ने पंजाब पुलिस के जवानों को अपील करते हुए कहा कि वह अपने महान योद्धा की कुर्बानी से मार्गदर्शन लें। इस दौरान आइजी अरूण मित्तल ने शहीदों के परिवारों को समस्याएं सुनी, जिसमें ज्यादातर समस्याओं को निपटारा मौके पर किया गया, जबकि बाकी परेशानियों को निपटाने के लिए सीनियर अधिकारियों को लिखकर भेजने का भरोसा दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!