जासं,बठिडा: सरकारी आदर्श स्कूल में वीरवार सुबह बच्चों के अभिभावकों ने जमकर हंगामा किया। अभिभावकों का आरोप था कि स्कूल में गत दिवस समागम किया गया व इस दौरान सभी क्लासों से बैंच निकालकर बाहर बरामदों में रख दिए गए। वीरवार सुबह तक बैंच बाहर ही थे। सुबह जब स्कूल खुला तो बच्चों के बैठने के लिए कक्षाओं में व्यवस्था नहीं थी। स्कूल का दर्जा चार स्टाफ इधर-उधर घूमता रहा, लेकिन किसी ने बाहर रखे बैंच कमरों में नहीं रखवाए, बल्कि बच्चों को ही बैंच उठाने व कमरों की सफाई करवाने का काम दे दिया गया। टीचरों की डांट से बचने के लिए बच्चे बैच उठाते नजर आए। अभिभावकों का आरोप है कि छोटे-छोटे बच्चों से भी बैंच उठवाए गए।

अपने बेटे को स्कूल छोड़ने आए अभिभावक अमित शर्मा ने बताया कि लाकडाउन के बाद उनका बेटा पहली बार स्कूल आया था। वह और उनकी पत्नी बेटे के साथ उसकी क्लास ढूंढ़ने लगे, लेकिन वहां के स्टाफ ने कोई भी जानकारी नहीं दी। सभी एक-दूसरे से पूछने की बात कहते रहे। स्टाफ प्रिसिपल के कमरे में बैठा था, जबकि प्रिसिपल छुट्टी पर थी। किसी तरह वह बेटे की कक्षा में पहुंचे तो वहीं कमरा खाली था व फर्नीचर नहीं लगा था। कुछ बच्चे सर्दी में जमीन पर बैठे थे। इसका उनके साथ अन्य अभिभावकों ने भी विरोध जताया। अभिभावक रमन, जगदीश, परमजीत ने आरोप लगाया कि स्कूल में अध्यापकों के साथ दर्जा चार कर्मचारियों की तैनाती के बावजूद बच्चों से काम करवाया जाता है। ऐसे बच्चों को चोट भी लग सकती है। उन्होंने इस बाबत जिला शिक्षा अधिकारी के साथ-साथ राज्य के शिक्षा मंत्री को भी शिकायत भेजी है।

Edited By: Jagran