जेएनएन, बठिंडा। नाभा जेल ब्रेक कांड के बाद चर्चा में आए खालिस्तान लिबरेशन फोर्स (केएलएफ) के नाम पर दो कारोबारियों से 20 लाख की चौथ मांगने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस इस मामले में और लोगाें के बारे में पता लगाने की कोशिश कर रही है।

दो कारोबारियों के घरों में पत्र फेंककर मांगे थे 10-10 लाख रुपये


डीएसपी (इन्वेस्टीगेशन) राजपाल सिंह हुंदल ने शनिवार को बताया कि 31 दिसंबर को शिव कॉलोनी गली नंबर तीन निवासी खाद कारोबारी द्वारका दास के घर पर केएलएफ का पत्र मिला था। पत्र में कारोबारी से दस लाख की चौथ मांगी गई थी। यह रकम नहीं देने पर पूरे परिवार को मारने की धमकी दी गई थी।

पढ़ें : इंजीनियर की धोखे से कराई शादी, सुहागरात में पत्नी ने ही खोला राज


उन्होंने कहा कि इसी तरह एक अन्य पत्र सूरज इंडस्ट्री एवं शराब कारोबारी संजीव कुमार के घर पर भी फेंका गया था। पत्र में अज्ञात व्यक्ति ने खुद को केएलएफ प्रमुख हरमिंदर सिंह मिंटू का साथी बताकर दस लाख डबवाली रोड पर लेकर आने की धमकी दी थी।

पढ़ें : बेटे के प्रेम संबंध का बदला लेने के लिए सरपंच की पत्नी से रेप

दोनों मामलों में जांच सीआइए-वन टीम को सौंपी गई थी। टीम ने सात दिन के अंदर धमकी भरे पत्र फेंकने वाले भट्टी रोड पर मोबाइल दुकान चलाने वाले दीपक राज बांसल निवासी अग्रवाल कॉलोनी को काबू कर लिया। सीआइए-वन टीम प्रभारी इंस्पेक्टर राजिंदर कुमार ने बताया कि दीपक गणपति टेलीकॉम दुकान चलाता है। आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण उसने रुपये ऐंठने के लिए धमकी भरे पत्र फेंक चौथ मांगी। युवक का केएलएफ व किसी अन्य संगठन से कोई सरोकार नहीं है।

नाभा जेल ब्रेक कांड के बाद फिरौती मांगने की रची साजिश

प्रदेश की हाई सिक्योरिटी नाभा जेल ब्रेक कांड के दौरान नामी गैंगस्टरों के साथ केएलएफ प्रमुख आतंकी मिंटू भी भाग गया था। इस पर दीपक ने केएलएफ के नाम पर चौथ वसूलने की साजिश रची। मिंटू को दिल्ली में पकड़ लिया गया था और उसका साथी कश्मीर सिंह फरार हो गया था। इसकी जानकारी दीपक को थी। इसी का फायदा उठाने के लिए उसने केएलएफ के धमकी भरे पत्र दो कारोबारियों के घर में फेंके।

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!