संस, बठिडा: माडल टाउन फेज तीन में श्रीमद् भागवत महापुराण का आयोजन 27 सितंबर से तीन अक्टूबर तक किया जा रहा है। पहले दिन श्रद्धालुओं द्वारा कलश व रथ यात्रा निकाली गई। कथा वाचक के तौर पर उत्तराखंड धाम से भागवताचार्य सतीश चमोली के पहुंचने पर उनका स्वागत फूलों के साथ किया गया। वह रथ में बैठकर महिलाओं कलश यात्रा में शामिल हुए। कलश यात्रा का पूरे रास्ते पर फूलों की बारिश से स्वागत किया गया।

कथा के दौरान सतीश चमेली ने कहा कि जिन पर परमात्मा की विशेष कृपा हुई है, वही इस कथा मंडप में पहुंचे हैं। जीव ईश्वर का स्वरूप होते हुए भी ईश्वर को पहचानने का प्रयत्न नहीं करता है। इसी कारण उसे आनंद की प्राप्ति नहीं होती है। यह जरूरी है कि प्रभु की भक्ति में मन लगाया जाए। तभी आपका जीवन सफल हो सकता है। श्रीमद् महापुराण से पहले निकाली कलश यात्रा माडल टाउन फेज तीन में श्रीमद् भागवत महापुराण का आयोजन 27 सितंबर से तीन अक्टूबर तक किया जा रहा है। पहले दिन श्रद्धालुओं द्वारा कलश व रथ यात्रा निकाली गई। कथा वाचक के तौर पर उत्तराखंड धाम से भागवताचार्य सतीश चमोली के पहुंचने पर उनका स्वागत फूलों के साथ किया गया। वह रथ में बैठकर महिलाओं कलश यात्रा में शामिल हुए। कथा के दौरान सतीश चमेली ने कहा कि जिन पर परमात्मा की विशेष कृपा हुई है, वही इस कथा मंडप में पहुंचे हैं। जीव ईश्वर का स्वरूप होते हुए भी ईश्वर को पहचानने का प्रयत्न नहीं करता है। इसी कारण उसे आनंद की प्राप्ति नहीं होती है।

Edited By: Jagran