संस, बठिडा : सेहत कर्मचारी संघर्ष कमेटी बठिडा की तरफ से पिछली 24 जुलाई से भूख हड़ताल शुरू कर रखी है। इसमें सेहत कर्मी अपनी जायज मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। सोमवार को भूख हड़ताल पर बैठे कर्मियों का पीसीएम एसोसिएशन की तरफ से जिला प्रधान डाक्टर गुरमेल सिंह, पंजाब राज्य फर्मेसी अफसर एसोसिएशन के कुलविदर सिंह और सुखविदर सिंह सिद्धू, मनिस्टरियल स्टाफ के जिला प्रधान सुरिदर सिंह, लेबोरटरी टैक्नीसियन यूनियन के महासचिव हाकम सिंह और हरजीत सिंह ने समर्थन किया। सेहत कर्मचारी संघर्ष कमेटी पंजाब के बुलावे पर पांच अगस्त को दोपहर 12 बजे से दो बजे तक ओपीडी सेवाओं को बंद रखने में सहयोग देने का विश्वास दिलाया। इस मौके पर विभिन्न वक्ताओं ने पंजाब सरकार से मांग रखी कि कच्चे कर्मचारी को तुरंत पक्का किया जाए, नवनियुक्त मल्टीपर्पज कामगारों का प्रवेशन पीरियड दो साल का किया जाए और समूचे स्टाफ को कोविड 19 में काम करने के बदले स्पेशल इंकरीमेंट भी दिया जाना बनता है। पीसीएम के जिला प्रधान डॉ. गुरमेल ने कहा कि कंटरेक्ट पर काम करते सेहत कर्मियों का वेतन दैनिक वेतन कर्मचारियों से भी कम है जिसके साथ दैनिक जरूरते भी पूरी नहीं हो पाती है। सरकार की तरफ से सरकारी कर्मचारियों के काटे जा रहे मोबाइल भत्ते को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। इस संबंधित आने वाले दिनों में बड़ा संघर्ष शुरू किया जाएगा और सरकार की कर्मचारी विरोधी नीति का जवाब दिया जाएगा। इस मौके पर प्रदर्शन में जसविदर शर्मा, हरजीत सिंह, बूटा सिंह व नरविदर सिंह आदि शामिल थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!