जासं, बठिडा : जिले की मंडियों में अभी तक नरमे की सरकारी खरीद शुरू नहीं हुई है। इसके विरोध में किसानों की ओर से बठिडा की कमला नेहरू कॉलोनी में स्थित कॉटन कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के दफ्तर के समक्ष भारतीय किसान यूनियन सिद्धूपुर की ओर से शुरू किया गया धरना मंगलवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। इस दौरान चेतावनी दी कि अगर नरमे की सरकारी खरीद को जल्द शुरू न किया गया तो वह दो नवंबर को जिले की मुख्य सड़कों पर प्रदर्शन करेंगे। जबकि धरने के दौरान किसानों द्वारा सीसीआई दफ्तर के पास पूरी सड़क को ही बंद कर सरकार के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की गई।

किसान यूनियन के महासचिव रेशम सिंह यात्री ने बताया कि प्रशासन की ओर से नरमे की खरीद के नाम पर किसानों के साथ लूट की जा रही है। इसके तहत किसानों को नरमे की फसल का पूरा भाव भी नहीं दिया जा रहा। जबकि सरकार ने नरमे का रेट 5450 तय किया है, लेकिन उनको यहां पर सरकारी खरीद शुरू न होने के कारण प्राइवेट फर्मों को 46-4700 रुपये में बेचना पड़ रहा है। इसके अलावा नरमे में नमी की मात्रा आठ फीसद निर्धारित की गई है, लेकिन विभाग के अधिकारियों के पास जो नमी को मापने वाला मीटर है, वह ही साढ़े तीन से शुरू होता है, जिस कारण नमी की मात्रा आठ फीसद से बढ़ जाती है। जबकि आदेशों के तहत है खरीद इंस्पेक्टर 12 फीसद तक वाले नरमे की खरीद तो करते हैं, लेकिन 9 से 12 के फीसद तक जैसे-जैसे नमी बढ़ेगी फसल का दाम भी कम कर दिया जाता है।

उन्होंने प्रशासन से मांग की कि मंडियों में सरकारी नरमे की खरीद को शुरू करवाया जाए, नहीं तो उनको संघर्ष करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!