जागरण संवाददाता, बठिडा: चुनावी साल होने के कारण कांग्रेस की ओर से शहर में धड़ाधड़ विकास कार्य करवा कर इसका फायदा लेने की कोशिश की जा रही है। अब शहर के लोगों की बीते समय से लटक रही मांग पूरी होने जा रही है, जिसके तहत नहर को पक्का किया जाएगा। इसके साथ ही रोज गार्डन में आधुनिक आडिटोरियम का निर्माण भी होगा। इन विकास कार्यों को शुरू करने के लिए खुद मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी वीरवार को बठिडा पहुंच रहे हैं। विकास कायरें का नींव पत्थर रखने के बाद बाद वह परस राम नगर में एक कार्यक्रम को संबोधित भी करेंगे।

असल में बठिडा की नहर बीते समय से कच्ची पड़ी है, जिसके टूटने का शहर वासियों के दिलों में हर समय डर बना रहता है। इस नहर को पक्का करने के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल भी नींव पत्थर रख चुकी हैं, लेकिन इस पर काम शुरू नहीं सका। यह बठिडा की एक प्रकार से लाइफ लाइन है। कुछ साल पहले यह नगर गांव गोबिदपुरा से टूट भी गई थी, जिस कारण गांव के खेतों में पानी भरने के अलावा लोगों के घरों में दरार भी आ गई थी। इसके अलावा बठिडा की डबवाली रोड स्थित सांई नगर में भी नहर टूट कर अपना कहर बरसा चुकी है। नहर को पक्का करने के पीछे हर बार फंड का अभाव होने का संकट पैदा हुआ। लेकिन अब पंजाब सरकार ने नहर को पक्का करने के लिए प्रोजेक्ट शुरू किया है, जिसका नींव पत्थर रखने के बाद पैसों को जारी किया जाएगा।

दूसरी तरफ रोजगार्डन स्थित बलवंत गार्गी ओपन एयर थियेटर का कल्चरल कांप्लेक्स में नवीनीकरण होगा। यहां इनडोर आडिटोरियम व आउटडोर थिएटर के अलावा स्टेट आफ द आर्ट डिस्प्ले गैलरी एवं म्युजियम को भी विशेष तरजीह मिलेगी, जिससे रंगमंच, थिएटर व साहित्य को प्रफुल्लित होने में भरपूर प्रोत्साहन मिलेगा। इसके लिए अब बलवंत गार्गी ओपन एयर थियेटर के आसपास की जमीन का भी इस्तेमाल किया जाएगा ताकि स्टेट आफ द आर्ट यानी साहित्यक एवं रंगमंच गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिए नई लुक में तैयार हो सके। निर्माणाधीन कल्चरल कांप्लेक्स में 900 सीटर इनडोर आडिटोरियम बनेगा, वहीं साथ ही 400 सीटर ओपन एयर थियेटर का निर्माण किया जाएगा। दशहरा समागम में नहीं जाएंगे सीएम बठिडा में पिछले कई दिन से रेलवे ग्राउंड में मनाए जाने वाले दशहरा समागम में मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के आने को लेकर तैयारियां की जा रही थीं। मगर उनके दौरे से एक दिन पहले अचानक उनका कार्यक्रम रद कर दिया गया है। वह अब केवल विकास कार्यो का नींव पत्थर ही रखेंगे और शाम के समय लौट जाएंगे। डीसी अरविद पाल सिंह संधू ने बताया कि किसी कारण मुख्यमंत्री शहर के दशहरा समागम में शामिल नहीं हो पाएंगे।

Edited By: Jagran