जासं,बठिडा: सेंट्रल बैंक आफ इंडिया के तीन मैनेजरों ने एक व्यक्ति के साथ मिलकर कथित रूप से बैंक की एक महिला ग्राहक के फर्जी कागजात तैयार कर उसके खाते से 10 लाख रुपये निकालकर हड़प गए। पीड़ित महिला ने मामले की शिकायत बैंक के उच्चाधिकारियों को दी, लेकिन कोई भी कार्रवाई न होने पर उसने एसएसपी बठिडा को शिकायत दी। पुलिस ने जांच के बाद बैंक के तीन मैनेजरों समेत चार लोगों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

पुलिस को शिकायत देकर दर्शन कौर निवासी गुरु गोबिद सिंह नगर बठिडा ने बताया कि सेंट्रल बैंक आफ इंडिया ब्रांच ज्ञानी जैल सिंह कालेज में उसका बैंक खाता है। उसमें उसकी करीब 14 लाख रुयये की लिमिट थी। शिकायतकर्ता के मुताबिक आरोपित बंता राम निवासी भागू रोड बठिडा उसके परिवारिक रिश्तेदार हैं। साल 2012 में उसने आठ लाख रुपये की लिमिट बनवाई थी। वह इस दौरान खाते में पैसे जमा करवाती रही और निकलवाती भी रही। साल 2016 में उसने अपनी लिमिट बढ़ाकर 14 लाख रुपये करवा ली। 27 नवंबर 2020 को उसने आर्य समाज चौक बठिडा स्थित ब्रांच में 30 हजार रुपये निकलवाने के लिए एप्लीकेशन दी तो बैंक कर्मियों ने बताया कि आरोपित बंता राम ने 24 नवंबर 2020 को उसके खाते से 40 हजार रुपये निकलवा लिए हैं। इसके बाद उसने इंजीनियरिग कालेज वाली ब्रांच में जाकर अपने अकाउंट की स्टेटमेट निकलवाई तो पता चला कि आरोपित बंत राम ने बैंक के कर्मचारियों के साथ मिलीभगत कर चेक और वाउचर के जरिए उसके खाते से विभिन्न किस्तों में करीब 10 लाख रुपये निकाले हैं। बताया जा रहा है कि आरोपित बंत सिंह का पीड़ित दर्शन कौर के साथ साझे तौर पर बैंक खाता था। आरोपित बंता राम ने बैंक की तरफ से पीड़िता को जारी किए गए चेक और वाउचर पर अपने फर्जी हस्ताक्षर कर उक्त रकम निकलवाई। इस काम में बैंक के मैनेजर प्रेम चंद निवासी निरंकारी भवन सिरसा हरियाणा, मैनेजर रोहताश कुमार निवासी प्रताप नगर बठिडा व मैनेजर विजय कुमार निवासी वाराणसी उत्तर प्रदेश ने साथ दिया। पुलिस ने सभी आरोपित लोगों पर मामला दर्ज कर अगली कार्रवाई शुरू कर दी है।

Edited By: Jagran