राजन कैंथ, ब¨ठडा

रविवार को बठिंडा में भाई मति दास नगर में एक महिला ने अपने छह साल को बेटे की किरच मारकर हत्या कर दी। हालांकि हत्या के कारणों के बारे में अभी कुछ स्पष्ट नहीं हो पाया है। लेकिन इसके बाद से पूरे मोहल्ले में गमगीन माहौल है। महिला के पागलपन ने अपने हंसते खेलते परिवार को उजाड़ कर रख दिया। वारदात के बाद महिला के चेहरे पर कोई मलाल तक नहीं था। प्रत्यक्षदर्शी बताते हैं कि बाहर आकर उसने जब पति और परिवार को बेटे की हत्या के बारे में बताया तो उसके चेहरे पर मुस्कराहट थी। पहले वह कहती रही कि उसने हैवी (हरकीरत) को मार दिया है। मगर बाद में कहने लगी कि मुझे मेरे बेटे से मिलवा दो, मैने उसे नहीं मारा है।

करीब 12 साल पहले पर¨मदर की शादी फरीदकोट निवासी फौज से रिटायर्ड सूबेदार म¨हदर ¨सह की सबसे छोटी बेटी राजबीर कौर के साथ हुई थी। शादी को काफी समय बीत जाने पर भी जब उन्हें औलाद का सुख न मिल सका तो परिवार ने कई धार्मिक स्थलों पर जा-जाकर मन्नतें मांगी। छह साल बाद जब राजबीर की गोद हरी हुई तो परिवार की खुशियों का ठिकाना न रहा। राजबीर अपने बेटे से बहुत प्यार करती थी व उसे खुद से एक पल दूर नहीं करती थी।

स्कूल जाता तो बच गया होता

हरकीरत लार्ड रामा स्कूल में पहली कक्षा का छात्र था। गर्मियों की छुट्टियां होने के कारण इन दिनों वो अपने घर में था। छुट्टियां खत्म होने पर सोमवार स्कूल जाने वाला था। विलाप करती दादी बल¨जदर कौर यही कहे जा रही थी कि काश आज स्कूल खुला होता, तो हैवी स्कूल में होता। इससे उसकी जान बच जाती। दूसरी ओर फरीदकोट से आई राजबीर की मां बलवीर कौर पुलिस अधिकारियों के सामने हाथ जोड़ यह कह कर गिड़गिड़ाने लगी, कि उसकी बेटी को कुछ मत कहना। उसका कोई दोष नहीं है।

पहले नाश्ता कराया, फिर की हत्या

गुरचरण ¨सह ने बताया कि हरकीरत को व्हीट एलर्जी थी। इसलिए वह गेहूं से बनी कोई चीज नहीं खा सकता था। उसके लिए स्पेशल आटा और स्पेशल खाने का सामान लाया जाता था। रविवार सुबह ब्रश कराने के बाद राजबीर ने हैवी को नाश्ता कराया। उसके लिए स्पेशल ब्रेड लाई गई थी। नाश्ते के बाद वह उसे नहलाने के लिए बाथरूम में ले गई। जहां उसने बेदर्दी के साथ उसकी हत्या करके अपने ही घर के चिराग को हमेशा के लिए बुझा दिया।

हैवी को घुमाने ले जाने वाला था पिता

पर¨मदर के एक दोस्त ने बताया कि वो लोग हर साल गर्मियों में परिवार समेत हिल स्टेशन पर एक सप्ताह के लिए घूमने जाते हैं। इस बार वो सब तो घूम आए, मगर किसी वजह से पर¨मदर और उसका परिवार नहीं जा पाया। हैवी घूमने की जिद कर रहा था। ऐसे में पर¨मदर ने रविवार उन्हें शहर में ही घुमा लाने की योजना बनाई। इसीलिए वह बरामदे में खड़ी अपनी कार धोने लगा। लेकिन इसी दौरान यह सब हो गया।

हाल ही में खरीदा था प्लॉट

हैवी के दादा गुरचरण ¨सह ने बताया कि वह एयरफोर्स से कारपोरल रिटायर्ड हुए थे। उसके बाद वो पंजाब एग्रो इंडस्ट्रीज में डिस्ट्रिक्ट मैनेजर के पद पर तैनात रहे। उनके दो बेटे हैं। एक बेटा परिवार समेत मोहाली में रहता है। जबकि वह अपनी पत्नी बल¨जदर कौर के साथ छोटे बेटे पर¨मदर के साथ यहां भाई मति दास नगर में रहते हैं। पर¨मदर यहां प्रापर्टी डीलर का काम करता है। परिवार के सभी सदस्य बड़े प्यार से रहते थे। छह महीने पहले गुरचरण ¨सह ने पर¨मदर और राजबीर के नाम पर एक हजार गज का प्लॉट खरीदा था।

राजबीर खुद को मारना चाहती थी : एसपी

एसपी गुरमीत ¨सह ने कहा कि अब महिला यह कह रही है कि वो डिप्रेशन में चली गई थी और खुद को मारना चाहती थी। मगर उसका खुद पर नियंत्रण नहीं रहा, और उसने बेटे पर किरच से एक के बाद एक 18 से 20 वार कर दिए। वह चिल्ला न सके इसके लिए उसके मुंह में तौलिया ठूंस दिया। उधर, दादा गुरचरण ¨सह ने बताया कि इससे पहले उनके घर में कभी ऐसी बात नहीं हुई, जिससे लगे के राजबीर कभी इतनी ¨हसक हो सकती है। उसे कभी कोई दौरा नहीं पड़ा। उसे लो बीपी की बीमारी है, जिसकी दवा चल रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!