जासं,बठिडा: प्रदेश के एडिड स्कूलों के सैकड़ो अध्यापकों तथा पेंशनरों ने छठा पे कमीशन लागू न करने के रोषस्वरूप वीरवार को वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल के खिलाफ बठिंडा में राज्य स्तरीय रोष रैली की गई। इस दौरान प्रदेश भर से पहुंचे अध्यापकों ने बठिडा की गोल डिग्गी से रोष मार्च शुरू किया, जोकि फायर बिग्रेड चौक पहुंचा। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल के खिलाफ नारेबाजी की। इस राज्य स्तरीय रोष प्रदर्शन में बठिडा, जालंधर, लुधियाना, गुरदासपुर, अमृतसर, पटियाला, नाभा, फिरोजपुर, फरीदकोट, कोटकपुरा, जैतो, अबोहर, बरनाला समेत विभिन्न जिलों से बड़ी संख्या में शिक्षक व कर्मचारी और सेवानिवृत्त शिक्षक पहुंचे थे।

यूनियन नेताओं ने कहा कि पंजाब सरकार ने अब तक सहायता प्राप्त स्कूलों के कर्मचारियों पर छठा वेतन आयोग लागू नहीं किया है। यह कमीशन पंजाब की कांग्रेस सरकार द्वारा चार साल की देरी से पहले ही दिया जा चुका है, लेकिन सरकार द्वारा सहायता प्राप्त स्कूलों के साथ सौतेली मां की तरह व्यवहार किया गया है। यूनियन के पवन शास्त्री ने कहा कि उक्त अधिनियम के तहत सहायता प्राप्त कर्मचारियों को पहले पांच वेतन आयोगों का भुगतान किया जा रहा है। शिक्षकों में भारी आक्रोश है। ये स्कूल देश की आजादी से भी पहले के हैं। बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। केंद्रीय सचिव हुसैन लाल और खाद्य आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु भी सहायता प्राप्त स्कूलों के छात्र रहे हैं। उन्होंने वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल से आचार संहिता लागू होने से पहले उनकी मांगों को स्वीकार करने का आग्रह किया। इसके साथ ही चेतावनी दी कि जल्द ही मांगें पूरी नहीं की गईं, तो संघर्ष तेज हो जाएगा।

इस मौके पर श्रीकांत शर्मा,मान सिंह,पवन शास्त्री, जसपाल मेहता, दीपक कुमार, सतीश शर्मा, विक्रमजीत सिंह, गुरतेज सिंह, कुलदीप सिंह, गुरमीत सिंह मदनीपुर, करमजीत रानो, अरविद बैंस, नरेंद्रपाल सिंह, अनिल भारती, परमजीत सिंह, सुरिदर सिंह सोढ़ी,राज कुमार मिश्रा,अजय चौहान,अशोक वडेरा,अश्विनी कुमार, परमजीत सिंह, बालकृष्ण गुप्ता मौजूद थे।

Edited By: Jagran