संवाद सहयोगी, गोनियाना मंडी : गोनियाना कलां गांव के पास शनिवार सुबह दो कारों में टक्कर होने से में एक छात्रा व एक महिला की मौत हो गई जबकि कार में सवार चार अन्य लोग घायल हो गए। छठी कक्षा में दाखिला लेने के लिए नवोदय स्कूल का इंट्रेंस देने के लिए गोनियाना मंडी से चार छात्राएं नथाना जा रही थीं, इसी दौरान उनकी कार हादसाग्रस्त हो गई। हादसाग्रस्त मारूति कार में गोनियाना मंडी से चार बच्चियां, एक युवती, एक महिला और एक ड्राइवर सवार थे। गांव गोनियाना कलां के पास पीछे से आ रही वरना कार ने इस कार को टक्कर मार दी। हादसे में घायल युवती और तीन छोटी लड़कियों को 108 एम्बुलेंस और सहारा जनसेवा ब¨ठडा की मदद से सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया। प्राथमिक इलाज के बाद उनको ब¨ठडा के सिविल अस्पताल में शिफ्ट कर दिया। वरना कार का ड्राइवर मौके से फरार हो गया। मृतकों की पहचान छात्रा की पहचान ममता रानी पुत्री राम अवतार (आयु 10 वर्ष) और कौशल्या रानी पत्नी मुखराम आयु (आयु 40) निवासी गोनियाना मंडी के तौर पर हुई। कौशल्या की बेटी सुनेहा इसी कार में सवार थी। इस दौरान मनसा देवी पुत्री रॉकेश कुमार, सुनेहा पुत्री मुखराम, नंदनी पुत्री मक्खन ¨सह, पूजा पुत्री मुख राम निवासी पीरखाना बस्ती गोनियाना घायल हो गई। पुलिस ने मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए ब¨ठडा भेजा। चारों लड़कियों सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल में छठी कक्षा की विद्यार्थी थीं। सरकारी स्कूल की ¨प्रसिपल ने अपने स्टाफ के साथ घायल विद्यार्थियों का हाल चाल पूछा और इस दुर्घटना पर शोक जाहिर किया। इस दुर्घटना को लेकर पूरी गोनियाना मंडी में शोक की लहर है।

अंकल, नशे में था ड्राइवर : सुनेहा

हादसाग्रस्त कार में सवार छात्रा सुनेहा ने बताया कि हम सभी नथाना में नवोदय स्कूल का एंट्रेंस देने के लिए जा रहे थे। हम अभी गांव हररायपुर के पास ही पहुंचे थे कि पीछे से आई एक वरना गाड़ी ने उनकी कार को जोरदार टक्कर मार दी। वरना कार का ड्राइवर शराबी हालत में था।

बाद में पता चला आंटी व ममता की मौत हो गई

कार में सवार पूजा ने कहा कि वह पढ़ाई में मगन थी ताकि टेस्ट अच्छा हो सके। जब कार ने जोरदार टक्कर मारी तब उनको पहले तो समझ ही नहीं आया कि क्या हुआ। हम सभी सीट से गिर पड़े। सभी ने शोर मचाना शुरु कर दिया। बाद में पता चला कि आंटी व ममता की इस हादसे में मौत हो गई।

---

कौशल्या की नहीं थी कोई औलाद

कौशल्य के अपनी कोई औलाद नहीं थी और उन्होंने सुनेहा को एक बेटी को गोद लिया हुआ था। कौशल्या लोगों के घरों में काम करके परिवार को चला रही थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!