जागरण संवाददाता, बठिडा: बठिडा में निर्माणाधीन एम्स के लिए आने वाली 20 सालों की योजना तैयार की गई है ताकि भविष्य में मरीज बढ़ने पर कोई परेशान न आए। इसको लेकर अब 122 एकड़ जमीन और लेने की तैयारी की जा रही है। भारत सरकार की ओर से नियुक्त किए गए एम्स बठिडा की गवर्निंग काउंसिल के मेंबर व स्टैंडिग एस्टेट कमेटी के चेयरमैन श्वेत मलिक ने बताया कि इसकी फाइल बनाकर केंद्र सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजी जा चुकी है। मंजूरी मिलते ही जमीन अधिग्रहण का प्रोसेस शुरू हो जाएगा, जिसको पंजाब सरकार पूरा करेगी।

फिलहाल एम्स को बठिडा डबवाली रोड पर 177 एकड़ जमीन पर बनाया जा रहा है। अस्पताल को 980 करोड़ की लागत से 750 बेड वाला तैयार किया जा रहा है। एमबीबीएस के छात्रों के लिए सीटें भी 100 कर दी गई हैं। ओपीडी शुरू हो चुकी है, जिसे 2019 में शुरू किया गया था। इसके बाद से लेकर अब तक 1.75 लाख से ज्यादा मरीजों की ओपीडी की जा चुकी है। यहां पंजाब के विभिन्न हिस्सों, हरियाणा व राजस्थान के मरीज भी इलाज करवाने के लिए पहुंचते हैं। भविष्य की योजनाएं

- ओपीडी के बाद यहां इमरजेंसी की सुविधा भी शुरू की जाएगी।

- विभिन्न शहरों व राज्यों से मरीजों के साथ आने वालों के लिए धर्मशाला का निर्माण किया जाएगा।

- दूर-दराज से आने वाले डाक्टरों के लिए रिहायश भी बनाई जाएगी। अस्पताल में मिल रही सुविधाएं

- अत्याधुनिक 3टेस्ला एमआरआइ, 256 स्लाइस सिटी स्कैन मशीन के अलावा किडनी स्टोन को तोड़कर निकालने वाली मशीन भी स्थापित की गई है।

- कोरोना के आरटी पीसीआर टेस्ट और कोरना का इलाज किया जा रहा है।

- गुर्दे की पत्थरी के अलावा अन्य आप्रेशन किए जाते हैं।

- कैंसर के मरीजों के लिए आप्रेशन की सुविधा भी शुरू कर दी गई है।

Edited By: Jagran