जागरण संवाददाता, बरनाला

गांव ठीकरीवाला में अमर शहीद सरदार सेवा सिंह ठीकरीवाला की 87वीं बरसी श्रद्धा से मनाई जा रही है। 18 जनवरी को गांव में से श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की छत्रछाया व पांच प्यारों के नेतृत्व में नगर कीर्तन सजाया गया जिसमें गतका टीम द्वारा गतका के जौहर दिखाए व रागी जत्थों द्वारा कीर्तन दरबार सजाया गया। 19 जनवरी से तीन दिवसीय समारोह का आगाज किया गया, जिसमें अखंड पाठ आरंभ किए हैं। समारोह में गांव निवासी, प्रबंधक समेत विभिन्न गांव से संगत उपस्थित हुई। 20 जनवरी को नौजवान नेताओं को स्टेज दी जाएगी व 21 जनवरी को अमृत संचार होगा। दमदमा साहिब से पांच प्यारे संचार करेंगे व कीर्तन करेंगे।

-----------------------

यह रहा पहला दिन शहीद की बरसी पर 86 साल बाद ऐतिहासिक फैसला किया गया। फैसले के तहत राजनीतिक पार्टियों का बायकाट किया गया। 86 साल से चली आ रही परंपरा के मुताबिक 19 जनवरी को सत्ताधारी पार्टी के नेता पहुंचते थे व मंत्री आते थे लेकिन इस बार कृषि कानूनों को लेकर बायकाट रहा व किसी को आमंत्रण नहीं दिया। वहीं कांग्रेस की ओर से 19 जनवरी को कानूनों के विरोध को देखते हुए कोई भी नहीं पहुंचा जबकि कांग्रेस खुद को किसान हितैषी बता रही है। वहीं कोई प्रशासनिक अधिकारी भी नहीं पहुंचा जिस कारण किसानों में रोष पाया गया। ---------------------

नहीं पहुंचे किसान नेता शहीदी बरसी पर भाकियू उगराहां पंजाब प्रधान जोगिदर उगराहां, भाकियू डकौदा पंजाब प्रधान बूटा सिंह बुर्जगिल, संयुक्त मोर्चा के जोगिदर यादव समेत कोई भी बड़ा किसान नेता नहीं पहुंचा। इस संबंध में उगराहां ने कहा कि दिल्ली में परेड के संबंध में रैली व संघर्ष के कारण पहुंच नहीं सके। क्योंकि संघर्ष बड़ा होता जा रहा है, जिस कारण समारोह में चूक हो गई। -------------------- 10 किमी. तक की गई थी नाकाबंदी शहीदी बरसी पर गांव में सुरक्षा प्रबंध किए गए व 10 किमी. तक नाकाबंदी करके नाका लगाए गए। वहीं पुलिस बल तैनात रहा। गांव में मेला लगाया गया, जिसमें लोगों व बच्चो ने आनंद लिया।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप