करन बावा, हंडिआया, बरनाला :

केंद्र सरकार की योजना स्वच्छ भारत, स्वस्थ्य भारत को लेकर जहां सरकार शहर हो या गांव साफ सफाई के लिए परेशान कर रही है, वहीं हंडिआया में लोगों की सुविधा के लिए बनाए गए शौचालयों में ताले लगे होने के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

शहर के स्टैंडर्ड चौक हंडिआया में नगर कौंसिल ने शौचालयों का निर्माण करवाया था, लेकिन इन शौचालयों को ताले लगे ही दिखाई दे रहे हैं। स्टैंडर्ड चौक से मानसा, बठिडा, संगरूर, पटियाला, लुधियाना, चंडीगढ़ व सिरसा के लिए यात्री बसों से आते व जाते हैं, लेकिन यदि किसी को इन्हें उपयोग करने की जरूरत पड़ ही जाए तो वह उसका उपयोग नहीं कर सकता।

इस बारे में बात करने पर वहां दुकान चलाने वाले हरपाल सिंह, गुरप्रीत सिंह, प्रमोद कुमार, मनसा राम व रछपाल सिंह ने कहा कि बंद पड़े इस शौचालयों के कारण खरीददारी करने आने वाली महिलाओं को कई बार बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है, क्योंकि वे किसी से खुलकर अपनी समस्या बता भी नहीं सकती, और किसी के घर में बने शौचालय का उपयोग भी नहीं कर सकती हैं। इस लिए नगर कौंसिल शौचालयों को खोलकर लोगों को हो रही परेशानी से निजात दिलाए।

बाजार में खरीदारी करने आए जरनैल सिंह, हरप्रीत सिंह, रजेंद्र कुमार व महिला जसवीर कौर, सिंदो, जनक दुलारी आदि ने कहा कि नेता वोट लेने के लिए तो घर आ जाते हैं, लेकिन लोगों की सुविधा पर ध्यान नहीं देते, ऐसे में बाजार आने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

इस बारे में नगर कौंसिल के ईओ सतीश कुमार गर्ग से करीब डेढ़ माह पहले पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि जल्द ही उसे ठीक करवा ताले खुलवा देंगे। अब दूसरी बार बात करने पर भी उन्होंने वहीं जवाब दिया, आखिर वे कब ठीक करवाएंगे यह तो समय ही बताएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!