हेमंत राजू, बरनाला

कोरोना महामारी के कहर का असर अब गेहूं की लिफ्टिग पर भी देखने को मिल रहा है। लेबर की कमी के कारण जिला बरनाला की अनाज मंडियों में गेहूं की लिफ्टिग नहीं हो रही है। सभी काम पूरी तरह से प्रभावित हो चुका है। लिफ्टिग का काम रुकने का कारण बाहरी राज्यों के मजदूरों की वजह है, क्योंकि कोरोना के बढ़ते मामलों व संपूर्ण लाकडाउन के भय से उन्होंने अपने-अपने गांव लौटना शुरू कर दिया है। जिला बरनाला की अनाज मंडियां चारों तरफ लेबर के बिना सुनसान पड़ी दिखाई दे रही हैं। जिले में अभी तक गेहूं की पचास प्रतिशत ही लिफ्टिग हुई है जबकि पचास प्रतिशत होनी अभी बाकी है। लिफ्टिग के इंतजार में अनाज मंडी बरनाला व अनाज मंडी खुड्डी कलां में गेहूं की बोरियों के अंबार लगे हैं।

आढ़तिया एसोसिएशन बरनाला के सीनियर उपप्रधान सतीश चीमा ने कहा कि सरकार को चाहिए कि वह जल्द से जल्द लिफ्टिग करवाकर आढ़तियों व मजदूरों को फ्री किया जाए ताकि वह भी कोरोना महामारी से बचाव रखते हुए अपने घर जा सकें।

आढ़तिया एसोसिएशन के पूर्व प्रधान धीरज कुमार दद्धाहुर ने कहा कि पंजाब सरकार मजदूरों का प्रबंध करके जल्द ही लिफ्टिग करवाए ताकि इस गेहूं को संभाल के लिए रखा जाए व खुले आसमान के नीचे पड़ी गेहूं की बोरियों को बारिश में खराब होने से बचाया जा सके।

------------------ मंडियों में जल्द ही लिफ्टिग के काम में तेजी लाई जाएगी। निर्देश दे दिए गए हैं। --अतिदरपाल कौर, डीएफसी