संवाद सहयोगी, बरनाला :

प्रदेश सरकार की तरफ से बाल दिवस के दिन जिले के सभी सरकारी स्कूलों में प्री-प्राइमरी कक्षाओं का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर स्कूल के मुख्य अध्यापक व स्टाफ की तरफ से प्री-प्राइमरी कक्षाओं में आए बच्चों का भव्य स्वागत किया गया। प्रदेश सरकार द्वारा आंगनवाड़ी सेंटरों को बंद करके सभी सरकारी प्राइमरी स्कूलों में प्री प्राइमरी कक्षाएं खोली गई है व अंगणबाड़ी सेंटरों में पढ़ने वाले सभी बच्चों को प्राइमरी कक्षाओं में पढ़ने के लिए भेज दिया गया है।

14 नवंबर को बाल दिवस के दिन प्रदेश सरकार

द्वारा प्राइमरी स्कूलों में खोली गई, प्री-प्राइमरी कक्षाओं में आने वाले बच्चों के लिए सभी स्कूलों के अध्यापकों की तरफ से अच्छे प्रबंध किए गए व बच्चों के लिए खिलौने, चॉकलेट, ट्राफियां, कक्षाओं के कमरों में बच्चों के लिए रंग-बिरंगे गुब्बारे लगाकर सजावट की गई। इस अवसर पर सरकारी प्राइमरी जवाहर बस्ती के मुख्य अध्यापक पर¨मदर ¨सह ने बताया कि उनकी तरफ से स्कूल के स्टाफ के सहयोग से प्री-प्राइमरी कक्षा को पेंट करवाकर अपने खर्च से सजाया गया है। इस अवसर पर सरकारी प्राइमरी स्कूल के मुख्य अध्यापक के किरना देवी, जवाहर प्राइमरी स्कूल के मुख्य अध्यापक पर¨मदर ¨सह, नीलम रानी, चरन वीरपाल कौर, हरजीत कौर, ¨डपल रानी, शैली, गुर¨वदर कौर, जसप्रीत कौर, अनिता रानी, गीता रानी व सरकारी प्राइमरी हॉस्टल स्कूल के मुख्य अध्यापक भूपेंद्र कौर, नीतू, बलजीत, मधु, मीनाक्षी, कमेटी के सदस्य तेलू राम गोयल, प्रवीन कुमार, प्रकाश चंद, सहयोगी सज्जन गणपत चौधरी उपस्थित थे।

बिना सरकारी फंड के चल रही है मिड-डे मील

प्रदेश सरकार की तरफ से विगत 3 माह से मिड-डे मील के लिए फंड जारी ना करने के बाद भी स्कूलों में मिड-डे मील बंद नहीं हुई है। स्कूल के स्टाफ की तरफ से मिलजुल कर राशन एकत्र कर बच्चों को मिड-डे मील उपलब्ध करवाई जा रही है। इस अवसर पर स्कूल के मुख्य अध्यापक प्रमेंद्र ¨सह, भूपेंद्र कौर ने बताया कि कि सरकारी फंड ना आने के बावजूद भी उनकी तरफ से अपने खर्चे पर स्कूलों में मिड-डे मील चलाई जा रही है व बच्चों को पहले की तरह ही अच्छा भोजन उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मिड-डे मील चलाने के कारण उनका दुकानों पर राशन का एक लाख का बकाया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!