संवाद सूत्र, बरनाला

स्थानीय बीवीएम इंटरनेशनल स्कूल में यूकेजी के बच्चों को सेंस आर्गन का ज्ञान दिया गया। सेंस आर्गन शरीर के वह अंग हैं जिनके द्वारा मनुष्य देख, सूंघ, सुन, स्वाद व स्पर्श या महसूस करने में सक्षम होता है। हमारे शरीर में पांच सेंस आर्गन हैं। आंखें देखने के लिए, नाक गंध के लिए, कान सुनने के लिए, जीभ चखने के लिए व त्वचा स्पर्श या महसूस करने के लिए। बच्चों को सेंस आर्गन का ज्ञान देना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इनसे ही वह दुनिया को देख सकते हैं। बच्चों को उनके शरीर के अंगों संबंधी जानना भी जरूरी होता है कि हमारे शरीर का अंग हमारे लिए क्या कार्य करता है। पहले अध्यापकों ने बच्चों को सेंस आर्गन का ज्ञान दिया कि हमारे शरीर में कितने सेंस आर्गन हैं। स्कूल प्रिसिपल ने कहा कि इस प्रकार की गतिविधियां बेहद जरूरी हैं व बच्चों को इस तरह की गतिविधियों में भाग लेना चाहिए। ----------------

मदर टीचर स्कूल में सोलर सिस्टम गतिविधि करवाई संवाद सूत्र, बरनाला

मदर टीचर इंटरनेशनल स्कूल में पहली व दूसरी कक्षा के विद्यार्थियो को सोलर सिस्टम संबंधी समझाने हेतु गतिविधि का आयोजन किया गय। इस गतिविधि में पहली व दूसरी कक्षा के विद्यार्थियों ने विभिन्न ग्रहों के माडल बनाए व फिर उसी ग्रह के बारे में विस्तार में बताया। स्कूल कोर्डिनेटर कुलविदर कौर ने बच्चो को धरती, सूर्य व अन्य ग्रहों के विषय में विस्तार से समझाया। उन्होंने कहा कि इन विषयों द्वारा इस प्रकार की गतिविधियों से ही बच्चों को सफलता से समझाया जा सकता है। स्कूल प्रिसिपल वर्षा सचदेवा ने भी बच्चों को यूनिवर्स के विषय में जानकारी देते हुए उनकी गतिविधयों की काफी प्रशंसा की।

Edited By: Jagran