संवाद सहयोगी, बरनाला

जिला बरनाला के नजदीकी गांव ताजोके के किसान गुरप्रीत सिंह ने 36 एकड़ जमीन पर धान की सीधी रोपाई करके अन्य किसानों के लिए मिसाल बना है। उसने अपने 100 फीसद रकबे में धान की सीधी रोपाई की है।

किसान गुरप्रीत सिंह पुत्र हरगोबिद सिंह निवासी ताजोके ने बताया कि उसके पास 30 एकड़ जमीन अपनी है व करीब छह एकड़ जमीन ठेके पर लेकर जोतता है। उसने करीब 36 एकड़ रकबे में धान की सीधी रोपाई की है। वह पहले रिवायती ढंग से धान की रोपाई करता था कितु विगत वर्श कोरोना काल दौरान लेबर की समस्या के चलते उसने धान की सीधी रोपाई को अपनाया, जिसके बेहतरीन परिणाम सामने आए। इस तकनीक से लेबर, पानी व समय की होती बचत को देखते हुए उसने इस बार पूरे रकबे में धान की सीधी रोपाई की। इस तकनीक से झाड़ भी बढ़ा है जो करीब 33 से 34 क्विटल प्रति एकड़ था।

इस तकनीक से धान लगाने के लिए लेवल ले•ार से जमीन समतल करके डीएसआर ड्रिल का उपयोग किया गया। उन्होंने अपने स्तर पर यह मशीन खरीदी है, जिसकी सब्सिडी के लिए अप्लाई किया हुआ है। गांव ताजोके के किसान सफल किसान हैं व गांव का करीब 5 हजार एकड़ रकबा डीएसआर अधीन है।

इसी गांव के बूटा सिंह ताजोके ने बताया कि उनके पास 26 एकड़ जमीन है। पिछले वर्ष 10 एकड़ में धान की सीधी रोपाई की थी जो सफल रही। इस बार 15 एकड़ में सीधी रोपाई की है।

डीसी तेजप्रताप सिंह फूलका ने गांव ताजोके के सफल किसानों की प्रशंसा करते हुए अन्य किसानों को भी धान की रकबा सीधी बिजाई अधीन लाना चाहिए।

Edited By: Jagran