जागरण संवाददाता, बरनाला : कैबिनेट मंत्री पंजाब भारत भूषण आशु ने सिविल अस्पताल बरनाला में हिसा से प्रभावित महिलाओं की सहायता के लिए बनाए सखी: वन स्टाप सेंटर की 46 लाख 49 हजार की लागत से बनी नई इमारत को प्रदेश निवासियों को समर्पित किया। इस इमारत में ग्राउंड फ्लोर का एरिया 1500 वर्ग फीट है व पहली मंजिल का एरिया 700 वर्ग फीट है, कुल एरिया 2200 वर्ग फीट है। इस के बाद केबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु ने गांव सेखा में बनाए स्मार्ट स्कूल का भी उद्दघाटन किया। उन्होंने अपने फंड बीच में से पांच लाख रुपये स्कूल को व पांच लाख रुपये गांव की पंचायत को देने का ऐलान किया।

कैबिनेट मंत्री ने बताया कि प्रदेश सरकार लोगों को अच्छी शिक्षा व सेहत सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए वचनबद्ध है। इसलिए लगातार उचित प्रयत्न किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी मकसद से प्रदेश सरकार ने सरबत सेहत बीमा योजना लागू करने का फैसला लिया गया है, जिससे पंजाब के 43 लाख से भी अधिक परिवारों को पांच लाख रुपये के फ्री इलाज का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि इसी तरह शिक्षा के क्षेत्र में लागू किए फैसलों से स्कूल शिक्षा में बड़े स्तर पर गुणात्मक सुधार हुआ है।

उन्होंने बताया कि पंजाब के सभी जिले में खोले जा रहे इस सेंटर में एक ही छत में हिसा से प्रभावित महिलाओं को तुरंत मेडिकल, कानूनी व मनोवैज्ञानिक सलाह संबंधी सहायता दी जाएगी। उन्होंने बताया कि शारीरिक हमले, घरेलू हिसा, तस्करी के साथ संबंधी जुर्म, या तेजाबी हमले जैसी किसी भी समस्या का सामना कर रही पीडित महिला को सखी केंद्र में विशेष सेवाएं दीं जाएंगी। उन्होंने बताया कि सखी सेंटर में पीडित महिला चाहे वह किसी भी जाति, वर्ग, धर्म, क्षेत्र या विवाहिता स्थिति को मदद मुहैया करवाई जाएगी। उनहोंने बताया कि हिसा से प्रभावित महिला अपने बच्चे (हर उम्र की लड़की व 8वर्ष तक का लड़का) के साथ केंद्र में 5दिनों तक रह सकती है।

इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस के सीनियर उपाध्यक्ष केवल सिंह ढिल्लों ने कहा कि जिले में विकास के कार्य में कोई भी कमी नहीं आने दी जाएगी। प्रदेश सरकार ने सरकारी स्कूलों को स्मार्ट स्कूल के तौर पर बनाना एक बहुत ही सराहनीय उद्यम है। इस के साथ एक जरूरतमंद घर का विद्यार्थी भी प्राईवेट स्कूलों की तरह अच्छी व आधुनिक शिक्षा प्राप्त कर सकेगा।

डीसी बरनाला तेज प्रताप सिंह फूलका ने बताया कि जरूरत पड़ने पर हिसा से प्रभावित महिला को अदालत में केस लड़ने के लिए वकील मुहैया करवाया जाएगा व केंद्र में पीडित महिला को सखी केंद्र में विशेष सुविधा भी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि लंबे समय के लिए सरकार-एनजी संस्था द्वारा चलाए जा रहे केन्द्रों में शरण मुहैया करवाई जाएगी। इस अवसर पर एसएसपी बरनाला हरजीत सिंह, एडीसी (जनरल) मैडम रूही दुग, एडीसी (विकास) प्रवीन कुमार, सिविल सर्जन डॉक्टर जुगल किशोर व अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran