संवाद सहयोगी, अमृतसर: पंजाब एकता पार्टी के पीएसी सदस्य व जिला अध्यक्ष सुरेश शर्मा ने नगर सुधार ट्रस्ट अमृतसर के चेयरमैन दिनेश बस्सी व वेरका मिल्क प्लांट के जीएम पर आरोप लगाया है कि वे मिलीभगत से शहर के प्राइम इलाकों में चहेतों को वेरका मिल्क बूथ अलाट कर रहे हैं।

सुरेश शर्मा ने पत्रकारों को बताया कि शहर में छह से सात बूथ अलाट किए जा चुके हैं। यह सरकारी नियमों को ताक पर रखकर अलाट किए जा रहे हैं। इसमें न तो कोई अखबारी इश्तिहार निकलवाया जा रहा है और न ही इसकी पब्लिकली घोषणा की जा रही है। हैरानी की बात है कि वेरका मिल्क प्लांट का जनरल मैनेजर इस संबंध में पहले चेयरमैन नगर सुधार ट्रस्ट को एक पत्र जारी कर उनसे निवेदन करता है कि उनके प्रोडक्ट की सेल करने के लिए बूथ अलाट किया जाए। इस सिफारिश पत्र में जिसका नाम होता है वो व्यक्ति चेयरमैन का ही परिचित होता है।

नगर सुधार ट्रस्ट का चेयरमैन दिनेश बस्सी इस सिफारिश पत्र मिलने के बाद उसी समय बूथ अलाट कर देता हैं। इस अलाटमेंट में बेरोजगारों, विधवा महिलाओं, अपाहिजों संबंधी कोई कोटा नहीं यह अलाटमेंट समृद्ध व्यक्तियों को की जा रही है। इस संबंधी शिकायत पंजाब के सहकारिता मंत्री सुखजिदर सिंह रंधावा और लोकल गवर्नमेंट विभाग पंजाब के प्रिसिपल सेक्रेटरी को भेज दी गई है। पत्र में दोनों पदाधिकारियों पर कार्रवाई करने के साथ साथ अलाट किए गए बूथों की अलाटमेंट कैंसिल करने के लिए लिखा गया है। इस संबंध में पंजाब के विजिलेंस विभाग को भी लिखा गया है। वहीं चेयरमैन दिनेश बस्सी ने आरोपों को नकारते हुए कहा कि वेरका पंजाब सरकार का उत्पाद है। जो भी वेरका बूथ अलाट किए गए हैं, वह पंजाब सरकार के नियमों के मुताबिक ही दिए गए हैं।