हरदीप रंधावा, अमृतसर

पावरकॉम अपने उपभोक्ताओं को दरपेश समस्याओं का हल निकालने के लिए समय-समय पर प्रयास करता रहता है, जिसमें बिजली के नए कनेक्शन लेने, लोड बढ़ाने व घटाने के लिए सुविधा केंद्रों की स्थापना, बिजली के बिल भरने के लिए स्थापित कैश काउंटरों के साथ-साथ सेवक मशीनों को स्थापित करना मुख्य है। वर्तमान समय में कैशलैस पेमेंट को बढ़ावा देते पावरकॉम ने तीन लाख रुपए की राशि के बिजली बिल कैश काउंटरों व सेवक मशीनों पर भरने पर रोक लगा दी है, जिससे कैश काउंटरों व सेवक मशीनों पर लगने वाली भीड़ ही नहीं कम होगी, बल्कि उपभोक्ताओं को बिजली घर के चक्कर लगाने से भी निजात मिल जाएगी।

ऑनलाइन पेमेंट करने में उपभोक्ताओं का बचेगा समय

सिटी सर्किल के सुपरीटेंडेंट इंजीनियर बालकिशन का कहना है कि पावरकॉम समय-समय पर उपभोक्ताओं की सहूलियत के लिए प्रयास करता रहता है, जिसके तहत वर्तमान समय में आनलाइन पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए तीन लाख रुपए तक के बिजली के बिलों का भुगतान कैश काउंटरों व सेवक मशीनों पर नहीं होगा। उन्होंने कहा कि उपभोक्ता डायरेक्ट पावरकॉम की वेबसाईट पीएसपीसीएलडॉटइन को लॉग इन करने के बाद पे-यूयर बिल के जरिए अपना बिल भर सकते हैं। उन्होंने कहा कि पहले उपभोक्ता अपनी सब-डिवीजन के अकाउंट पर बिल भरा करते थे, जो अब उन्हें पावरकॉम के मेन अकाउंट में भरना होगा, जिसके लिए अपना नाम रजिस्टर्ड करवाना होगा और वहां से उन्हें पावरकॉम का मेन अकाउंट नंबर भी मिल जाएगा, ताकि उन्हें बिल भरने में कोई परेशानी न हो।

Posted By: Jagran