जागरण संवाददाता, अमृतसर : नगर सुधार ट्रस्ट की रणजीत एवेन्यू ई ब्लॉक से सटी स्पो‌र्ट्स काम्पलेक्स की बेशकीमती जगह पर कब्जे को दोबारा ट्रस्ट ने हटवाया। दूसरी बार जगह को कब्जे में लेने के लिए दल बल के साथ पहुंची ट्रस्ट की टीम को किसी विरोध का सामना नहीं करना पड़ा। भारी पुलिस फोर्स की निगरानी में एक घंटे चली कार्रवाई में ट्रस्ट ने धार्मिक चिन्ह को छोड़कर बाकी जगह कब्जे में ली। श्री दरबार साहिब के ग्रंथी की निगरानी में सत्कार कमेटी ने धार्मिक चिन्ह को लेकर रिपोर्ट बनाई, जो अगली कार्रवाई के लिए श्री दरबार साहिब दी जाएगी।

रणजीत एवेन्यू में ट्रस्ट की यह पांच हजार गज बेशकीमती है और इसकी मार्केट कीमत लगभग 25 करोड़ है। खास बात यह है कि जगह पर पहले भी चार बार कब्जा हो चुका है और ट्रस्ट चार बार इसे कब्जामुक्त करवा चुका है। 14 फरवरी को ट्रस्ट के चेयरमैन दिनेश बस्सी को पता चला कि दोबारा इस जगह पर कब्जा हो गया। इसके बाद उन्होंने पुलिस कमिश्नर से पुलिस फोर्स तथा ड्यूटी मजिस्ट्रेट के तौर पर तहसीलदार भेजते हुए इसे कब्जामुक्त किया, पर अगले दिन दोबारा अतिक्रमण हो गया। मंगलवार को पुलिस बल के साथ ट्रस्ट की एक्सईएन प्रदीप जसवाल, रविदर कुमार, बिक्रम सिंह, बलजिदर मोहन, एसडीओ सुखदेवराज, केवल किशन, हरमीत सिंह, राजबीर सिंह, जेई शमशेर भुल्लर, मनदीप सिंह, जसपाल सिंह, जसबीर सिंह, सोनू गांधी के नेतृत्व में टीम ने कार्रवाई करते हुए जगह पर दोबारा कब्जा कर लिया।

कब्जाधारियों ने पहले ही दे दी थी चेतावनी

14 फरवरी को जब ट्रस्ट की टीम पांच हजार गज पर हुए कब्जे को हटाने पहुंची तो दो हजार गज पर बने हुए शेड को तोड़ दिया, तब भी धार्मिक चिन्ह लगा था। ट्रस्ट की टीम ने जब कार्रवाई शुरू की तो कब्जाधारियों ने उन्हें चेतावनी दे दी थी कि 'तुसी जो मर्जी कर लवो, आपा फेर कब्जा कर लैणा। और हुआ भी वैसा। अगले ही दिन उन्होंने दीवार फांदने के लिए लकड़ी की सीढि़यां लगा ली और अस्थायी टैंट लगा लिए। अब कितने दिनों तक ट्रस्ट का यहां कब्जा रहता है, यह देखने वाला है।

लिस्ट तैयार, जल्द अन्य स्थानों से हटेंगे कब्जे

चेयरमैन दिनेश बस्सी ने कहा, आने वाले दिन में नेहरू शॉपिग काम्पलेक्स व अन्य जगह पर कब्जे छुड़ाने की कार्रवाई होगी। ट्रस्ट की जिन जगहों पर कब्जे हैं, उनकी लिस्ट बना ली है। उन्होंने कब्जाधारियों को चेतावनी दी कि वह खुद ही कब्जे खाली कर दें, अन्यथा ट्रस्ट कड़ी कार्रवाई के लिए मजबूर होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!