जागरण संवाददाता, अमृतसर

केंद्र व राज्य सरकारों की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ किसान मजदूर संघर्ष कमेटी ने पुतला फूंक प्रदर्शन किया। इस दौरान किसानों ने मजीठा, कत्थूनंगल और बाबा बुड्ढा साहिब में रोष रैलियां की। किसानों ने अमृतसर कत्थूनंगल मार्ग पर करीब आधा घंटा जाम लगा कर केंद्र और राज्य सरकार का पुतला फूंका।

संगठन के महासचिव सरवन सिंह पंधेर और जिला अध्यक्ष लखविदर सिंह वरियाम ने कहा कि सरकारें इस वक्त पूरी तरह कारपोरेट घरानों के ईशारों पर चल रही हैं। फसलों के रेट सरकारें सही ढंग से तय नही कर रही हैं। किसानों की मांग है कि कृषि सुधार कानूनों को रद किया जाए। किसानों को कृषि कार्यों के लिए हर रोज आठ घंटे बिना किसी रूकावट बिजली सप्लाई दी जाए। बिजली एक्स संशोधित 2020 रद्द किया जाए। संशोधित श्रम एक्ट पूरी तरह वापिस लिया जाए। उन्होंने कहा कि राज्य भर में किसान 26 जून को डीसी, आईजी, पुलिस कमिश्नर और एसएसपी के माध्यम से कृषि कानूनों के खिलाफ ज्ञापन राष्ट्रपति को भेंजेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को आ रही मुश्किलों और किसानों पर संघर्षों के दौरान दर्ज मामले रद्द करवाने के लिए किसानों का प्रतिनिधि मंडल डीसी गुरप्रीत सिंह खैहरा, आईजी सुरिदरपाल सिंह परमार को भी मिला है। पांच जुलाई को हजारों किसानों का जत्था दिल्ली के लिए रवाना होगा। इस दौरान किसान नेता किरपाल सिंह कलेर, मुख्तार सिंह, सविदर सिंह, गुरलाल सिंह मान, गुरभेज सिंह, मेजर सिंह आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran