जागरण संवाददाता, अमृतसर : रेलवे स्टेशन पर टैक्सी स्टैंड खाली करवाने को लेकर मंगलवार को काफी हंगामा हुआ। रेलवे की टीम टैक्सी स्टैंड तोड़ने के लिए पहुंची तो वहां पर मौजूद चालकों ने धरना लगा दिया। आरोप लगाया कि उन्हें जबरी यहां हटाया जा रहा है। भाजपा के एक नेता के चहेते को इसका ठेका अलॉट कर दिया गया है। दूसरी तरफ अधिकारियों का तर्क है कि रेलवे की ओर से ठेका दिया गया है। उसे जगह खाली करवा कर देना जरूरी है।

रेलवे स्टेशन पर रेनोवेशन का काम चल रहा है। रेलवे ने टैक्सी स्टैंड का पूरा ठेका पवन खन्ना नाम के ठेकेदार को अलॉट किया है। ठेका अलॉट होने के बाद ठेकेदार की ओर से रेलवे को कहा जा रहा कि उसे जगह खाली करवा कर दी जाए। इसी तहत सीएमआइ प्रदीप कुमार मंगलवार को आरपीएफ और जीआरपी की टीम को साथ लेकर पुराने स्टैंड को तोड़ने के लिए पहुंचे। इसके रोष में चालकों ने धरना लगा गया। इसके बाद टैक्सी यूनियन के कुछ सदस्यो को साथ लेकर स्टेशन डायरेक्टर और सुपरिंटेंडेंट के साथ मीटिग की गई। वहां पर भी कुछ फाइनल नहीं हो पाया। अब बुधवार सुबह 10 बजे टैक्सी चालकों का एक डेलिगेट फिरोजपुर डीआरएम के साथ मीटिग करेगा।

टैक्सी चालकों की रोजी-रोटी नहीं छीनने देंगे : कुलदीप

टैक्सी यूनियन के प्रधान कुलदीप सिंह ने बताया कि स्टेशन पर करीब 50 टैक्सी चालक हैं। 220 ऑटो चालक हैं, जोकि अंदर जाकर सवारियों को लेते हैं। टैक्सी वाले प्रति महीना 1200 रुपये और ऑटो चालक प्रति महीना 500 रुपये टैक्स देते हैं। अब नया ठेकेदार अपनी मर्जी से अपने लोगों को यहां पर टैक्सी व ऑटो लगाने की इजाजत देगा। ऐसा कर उनकी रोजी-रोटी छीनी जा रही है, जिसे वह नहीं होने देंगे।

नया ठेका रेलवे ने जारी किया है : सीएमआइ

सीएमआइ प्रदीप कुमार ने कहा कि यह सारे टैक्सी चालक अनाधिकृत हैं। रेलवे ने ठेका दिया है। इसलिए उनकी ड्यूटी है कि जगह खाली करवा कर दी जाए, लेकिन टैक्सी चालक धक्केशाही पर उतरे हुए हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!