जेएनएन, अमृतसर। गुरु साहिब व सिख इतिहास को लेकर पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (पीएसईबी) की इतिहास की पुस्तकों में प्रयोग किए गए गलत शब्दों के खिलाफ अकाली दल ने पंजाब सरकार के खिलाफ 48 घंटे के लिए आंदोलन की शुरूआत की। इस दौरान पूर्व उप मुख्यमंत्री और अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने कहा कि कैप्टन सरकार ने सिखों पर एक बड़ा राजनीतिक हमला किया है। जिसे सहन नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि 12वीं कक्षा की इतिहास की पुस्तक के पांच चैप्टरों में सिख गुरु साहिबों के खिलाफ गलत शब्दों का उपयोग किया है। गुरु गोबिंद सिंह जी, गुरु अर्जुन देव जी और गुरु हर राय साहिब जी से संबंधित इतिहास को तोड़मरोड़ कर पेश किया है। इसके लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह को सिख कौम से माफी मांगनी चाहिए। वहीं, शिक्षा मंत्री ने यह बयान देकर कि पाठ्य पुस्तक में सिख इतिहास के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हुई सिखों के जख्मों पर नमक छिड़का है।

सुखबीर ने आरोप लगाए कि सिखों की आने वाली पीढिय़ों को गलत गुरु इतिहास पढ़ा कर गुरु घर से दूर करने की कोशिश की जा रही है। इससे पहले कांग्रेस हरिमंदिर साहिब पर टैंकों तोपों से हमला कर सैनिक कार्रवाई कर चुकी है। जबकि 1984 के दंगा पीडि़तों को अभी तक न्याय नहीं मिला है। आरोपित दोषी खुलेआम घूम रहे हैं और कांग्रेस सरकारें इन्हें बचाती आ रही है। अब, इसके बाद सिखों के इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश करने की साजिश की जा रही है। कभी 12वीं कक्षा में 600 पन्नों का सिख इतिहास विद्यार्थियों को पढ़ाया जाता था लेकिन अब यह 30 पन्नों तक सीमित कर दिया गया है। जब तक दोषियों को सख्त सजाएं नहीं दी जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

धरने से पहले की गई अरदास

स्थानीय टाउन हाल में शुरू किए गए 48 घंटों के धरने से पहले अकाली दल की ओर से श्री अकाल तख्त साहिब पर अरदास की गई। अरदास में अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर ङ्क्षसह बादल, पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया, श्री अकाल तख्त साहिब के पूर्व जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह सहित कई पूर्व मंत्री, विधायक, मौजूदा विधायक और पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

सुबह श्री अकाल तख्त साहिब के पास स्थित गुरुद्वारा बाबा गुरबख्श ङ्क्षसह में अखंड पाठ साहिब के भोग डाले गए। अरदास के बाद सुखबीर की अगुवाई में मार्च करते हुए अकाली वर्कर टाउन हाल पहुंचे। यहां पहले दिन सुखबीर बादल 24 घंटों के लिए धरने पर बैठे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!