जागरण संवाददाता, अमृतसर : कोरोना महामारी के दौरान न्यूजीलैंड से आए बड़ी संख्या में पंजाबी युवक कोरोना पाबंदियों के कारण भारत में फंस गए हैं। पाबंदियों के कारण वह वापिस न्यूजीलैंड नहीं जा पा रहे है। इन युवाओं ने वापिस न्यूजीलैंड जाने के लिए एसजीपीसी के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिदर सिंह धामी के साथ मुलाकात करके मदद की मांग की है। युवाओं की समस्या को सुनने के बाद एसजीपीसी अध्यक्ष धामी ने न्यूजीलैंड की सिख संस्था सिख सुप्रीम सोसायटी आकलैंड के अध्यक्ष दलजीत सिंह के साथ फोन पर बातचीत करके युवाओं को वापिस न्यूजीलैंड बुलाने के लिए वहां के अधिकारियों और सरकार के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत करने की अपील की है। वहीं इस मामले को लेकर एसजीपीसी ने एक पत्र भी दलजीत सिंह भेजा है।

धामी ने बताया के मुलाकात करने आए युवाओं ने बताया कि जब कोरोना की शुरुआत हुई थी तो तब कई युवा भारत आए थे। परंतु बाद में पाबंदियां बढ़ने के कारण वह वापिस न्यूजीलैंड नहीं जा पाए है। करीब 800 युवक भारत में फंसे हुए हैं जो वापिस न्यूजीलैंड नहीं जा पा रहे हैं। बहुत सारे युवा ऐसे हैं जिनके परिवारों के सदस्य भी न्यूजीलैंड में है। कोरोना पाबंदियों के कारण पिछले दो वर्षों से उनको न्यूजीलैंड में एंट्री नहीं दी गई है। बहुत सारे युवाओं के वीजे की मियाद भी खत्म हो चुकी है। उनके न्यूजीलैंड में रह रहे पारिवारिक सदस्य भी काफी पीड़ा सहन कर रहे हैं। एसजीपीसी ने इन युवाओं को वापिस न्यूजीलैंड पहुंचाने के लिए हर तरह की मदद करने का आश्वासन दिया है।

Edited By: Jagran