संवाद सूत्र, अमृतसर

फोकल प्वाइंट इंडस्ट्रियल इलाके में सीवरेज जाम होने के कारण क्षेत्र वासियों ने नगर निगम और इलाके के पार्षद के खिलाफ प्रदर्शन किया। लोगों ने यह प्रदर्शन इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के अध्यक्ष कमल किशोर कीअगुवाई में किया।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि कई महीनों से सीवरेज सिस्टम ठप पड़ा है। इस कारण स्थानीय कॉलोनी की हालत नरक से भी बदतर बन चुकी है कॉलोनी में रहना मुश्किल हो गया है। सीवरेज जाम होने से कॉलोनी की सड़कों, गलियों और घरों में दूषित पानी जमा होने लगा है। इसके चलते कॉलोनी की गलियों में बड़े-बड़े गड्ढे पड़ चुके हैं। इंडस्ट्रियल एरिया होने के कारण कॉलोनी में भारी वाहनों का आवाजाही रहता है। वहीं, पानी जमा होने से दोपहिया वाहनों का रास्ते से निकलना मुश्किल हो गया है।

उन्होंने कहा कि रात के समय में राहगीरों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अध्यक्ष कमल किशोर ने कहा कि सड़कों पर पानी जमा होने के कारण फैक्ट्री वालों और इलाका वासियों का घरों से निकलना मुहाल हो गया है। फैक्ट्री मालिकों के कारोबार को नुकसान पहुंच रहा है।

उन्होंने कहा कि फोकल प्वाइंट इलाके से करीब 48 करोड़ रुपये सालाना जीएसटी से अलावा और भी करोडों रुपए टैक्स सरकार के खाते में जा रहा है। लेकिन यहा पर फैक्ट्री वालों और इलाका वासियों को कोई सहूलियत नहीं दी जा रही। सड़कों पर जमा दूषित पानी से बीमारियों का डर बना हुआ है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि अगर नगर निगम चाहे तो इस समस्या का समाधान कुछ दिनों में कर सकता है। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि जल्दी से सीवरेज सिस्टम को ठीक करवा फोकल प्वाइंट इलाके को समस्या से निजात दिलाई जाए।

इस मौके पर अजीत सिंह, अरुण गुप्ता, शरणजीत कौर, बेवी, कुल्विदर कौर, संतोख सिंह, कुलबीर सिंह, गुरविदर सिंह, बलजीत सिंह आदि उपस्थित थे।

वहीं, इस बारे में पार्षद भूपिदर सिंह राही ने कहा कि वह इलाके की समस्या के बारे में कई बार मेयर को बता चुके हैं। लेकिन फिर भी समस्या हल नहीं हो पा रही। अगर जल्द ही फोकल प्वाइंट इलाके के सीवरेज सिस्टम को ठीक नहीं करवाया तो आसपास की कॉलोनियों का भी सीवरेज सिस्टम ठप होने का डर है। उन्होंने जिला प्रशासन से अपील की है कि फोकल प्वाइंट इलाके का सीवरेज सिस्टम को शीघ्र ठीक करवा कर लोगों को राहत प्रदान की जाए।

वहीं, नगर निगम का पक्ष जानने के लिए मेयर करमजीत सिंह रिटू का कई बार मोबाइल मिलाया गया, लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं की। बाद में पता चला मेयर विदेश गए हुए हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!