संस, अमृतसर: शहर के प्रख्यात व्यवसायी और समाज सेवा के प्रति समर्पित केसर वाले के नाम से मशहूर सेवाराम मेहरा का 26 नवंबर को निधन हो गया। उनकी उपलब्धियों और उनके अथक प्रयासों को सम्मान देने के लिए उनके परिवार ने 23 नवंबर को उनका 90वां जन्मदिन धूमधाम से मनाया। उन्होंने व्यवसाय के क्षेत्र में मेहनत से बहुत नाम कमाया। अपने माता-पिता के देहांत के बाद दस भाई-बहनों की जिम्मेदारी उन्होंने बहुत अच्छे से निभाई और सबको कामयाबी के शिखर तक पहुंचाया। उनके परिवार में दो बेटे सतीश मेहरा व सुनील मेहरा, दो बेटियां और संयुक्त परिवार है।

1932 को लाहौर में जन्मे स्व. सेवाराम मेहरा का संपूर्ण परिवार 1947 में भारत-पाकिस्तान बंटवारे के दौरान ही अमृतसर में बस गया। अपनी कड़ी मेहनत से मेहरा ने कामयाबी का परचम देश-विदेश में लहराया। अपने दृढ़ निश्चय की बदौलत उन्होंने अपने हर सपने को पूरा किया।

समाज सेवा के प्रति भी वह बहुत जागरूक थे और हर सामाजिक कार्यो में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते थे। सावन किरपाल रूहानी मिशन ट्रस्ट के मुखी संत रजिदर सिंह महाराज के वचनों का अनुसरण करते हुए उन्होंने अपना विद्यालय खोलने का सपना भी साकार किया। उन्होंने सोहियां कलां में दर्शन एकेडमी अपने परिवार को सम्मिलित करके खोली और स्कूल ट्रस्ट को समर्पित किया। इसमें आधुनिक शिक्षा के साथ-साथ साइंस एवं स्पिरिचुएलिटी को भी बढ़ावा मिलता है जो एक संस्कारी समाज को स्थापित करने में सहयोग देता है। सेवाराम मेहरा अपने परिवार एवं समाज के लिए एक मिसाल हैं और उनकी स्मृतियों एवं अच्छे कार्यो को समाज हमेशा याद रखेगा।

Edited By: Jagran