जागरण संवाददाता, अमृतसर

जस्टिस रंजीत ¨सह कमिशन की रिपोर्ट विधान सभा में पेश होने के बाद अकाली दल की हुई राजनीतिक किरकरी के उपरांत अकाली वर्करों ने राज्य भर में कांग्रेस के खिलाफ प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू कर दिया है। इसी के तहत अकाली दल की अमृतसर शहरी इकाई ने प्रदर्शन किया। इस दौरान अकाली वर्कर फोटो खिंचवाने के लिए धक्कामुक्की होते रहे। कांग्रेसी नेताओं के पुतले फूंकने के दौरान जलते पुतलों के साथ अपनी अपनी फोटो खिंचवाने के लिए नेताओं में मची होड़ से बड़ा हादसा भी हो सकता था। इतना ही नहीं अभी पुतले पूरी तरफ फूंके भी नहीं गए थे कि कई अकाली नेताओं और वर्करों ने वापस जाना शुरू कर दिया। सरकार के खिलाफ इस प्रदर्शन को सिर्फ एक खाना पूर्ति तक ही सीमित कर दिया। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की ओर से बेअदबी मामले में दोषी अकाली नेताओं को गांवों में न घुसने देने की चलाई मुहिम के खिलाफ अमृतसर के अकाली वर्करों ने राहुल गांधी, बलजीत ¨सह दादूवाल , कैप्टन अम¨रदर सिह , सुनील जाखड़, सुखी रंधावा और तृप्त र¨जदर ¨सह बाजवा के पुतले फूंके। प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व अकाली दल के जिला अध्यक्ष गुरप्रताप ¨सह टिक्का कर रहे थे। धक्का मुक्की के दौरान हालात ऐसे भी बन कर कि गए जलता हुए पुतला जिला प्रधान टिक्का के ऊपर गिरने लगा जिस में वह बाल-बाल बच गए। प्रदर्शनकारी पंजाब सरकार , कांग्रेस और कैप्टन अम¨रदर ¨सह के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे।

प्रदर्शन के दौरान टिक्का ने कहा कि कांग्रेसी नेताओं और सरबत खालसा के जत्थेदारों ने सिख पंथ और अकाली दल को कमजोर करने के लिए ही जस्टिस रंजीत सिह कमीशन की रिपोर्ट अकाली दल के खिलाफ तैयार करवाई है। इस साजिश का अकाली दल कांग्रेस पार्टी को मुंह तोड़ जवाब देगा। उन्होंने कहा कि अकाली दल कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष की धमकियों को किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेगा। अकालियों को गांवों के घुसने न देने का जो एलान कांग्रेसियों ने किया है, उसका करारा जवाब दिया जाएगा। जिस ने भी अकाली वर्करों को ललकारा है उनको बुरे नतीजे भुगतने पडे़ हैं। उन्होंने कहा कि अकाली दल पंजाब की भाई चारक सांझ को टूटने नहीं देगा। इस के लिए हर कुर्बानी करने के लिए अकाली दल के वर्कर तैयार हैं। इस दौरान दर्शन ¨सह , हरप्रीत चाहल, जसकीरत ¨सह , सु¨रदर ¨सह सुलतान¨वड, सु¨रदर ¨सह सुलतान¨वड, राज¨वदर कौर राज, गुरदियाल ¨सह , र¨जदर ¨सह मरवाहा, आरसी यादव, दिलबाग ¨सह , रविइंद्र ¨सह आदि भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran