अमृतसर, जेएनएन। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) के अध्यक्ष पद के लिए नाम 27 नवंबर को तय होना है। इसके लिए शिरोमणि अकाली दल बादल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह वीरवार दोपहर एसजीपीसी में अपनी पार्टी से संबंधित सदस्यों के साथ बैठक करेंगे। बैठक में सुखबीर अध्यक्ष व अन्य पदों के लिए उम्मीदवारों के नामों पर सदस्यों की राय लेंगे। 

इस बार भी संभावना यही है कि शिरोमणि कमेटी के सदस्य पार्टी के अध्यक्ष सुखबीर बादल को एसजीपीसी के अध्यक्ष के नाम का खुद चयन करने के अधिकार दे देंगे। सुखबीर सर्वसहमति से अधिकार मिलने पर अध्यक्ष पद का नाम चयन कर लिफाफे में बंद कर देंगे। इसके साथ ही अन्य पदों के लिए आए नामों की सूची भी सुखबीर तैयार करके लिफाफे में बंद करेंगे, जिसकी घोषणा शुक्रवार को डेलीगेट इजलास में की जाएगी।

अध्यक्ष पद के लिए गोविंद सिंह लोंगोवाल, जत्थेदार तोता सिंह और बीबी जागीर कौर के नामों पर चर्चा है। संभावना यही जताई जा रही है कि गोविंद सिंह लोंगोवाल को ही चौथी बार एसजीपीसी के अध्यक्ष पद की जिम्मेवारी सौंपी जा सकती है। शिअद पर बने पंथक संकट में इसे उसे बाहर निकालने में लोंगोवाल की अहम भूमिका रही है। विशेषकर श्री गुरु ग्रंथ साहिब के गायब हुए स्वरूपों के मामले में उन्होंने अहम भूमिका निभाई है। अकाली दल को मुश्किल से बाहर निकाला है। इसे ध्यान में रखते हुए अभी भी अकाली नेतृत्व के लिए गोविंद सिंह लोंगोवाल एसजीपीसी के अध्यक्ष पद के लिए सही उम्मीदवार दिखाई दे रहे हैं।

बाद दोपहर होने वाली बैठक में शिरोमणि अकाली दल के कुछ वरिष्ठ नेता भी शामिल हो रहे हैं। सदस्यों के साथ बैठक पूरी तरह गुप्त रहेगी। बैठक के बाद यह जरूर तय हो जाएगा कि शुक्रवार को एसजीपीसी के अध्यक्ष का ताज किसके सिर पर सजना है। शिरोमणि अकाली दल के लिए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष पद पर अपने वफादार को ही बिठाया जाता है, जो समय समय पर राजनीतिक व धार्मिक संकट में गिर चुके शिरोमणि अकाली दल को संकट से बाहर निकालने में भूमिका निभा सके। बैठक में पूरी संभावना है कि सभी सदस्य सर्वसम्मति से फैसला लेकर सुखबीर को शिरोमणि कमेटी का अध्यक्ष चुनने के अधिकार दे देंगे।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप