जागरण संवाददाता, अमृतसर: स्थायी नौकरी की मांग को लेकर संघर्षरत रूरल हेल्थ फार्मासिस्टों व दर्जा चार कर्मचारियों ने सोमवार को पीपीई किट्स पहनकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पिछले 25 दिन से जिला परिषद कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे फार्मासिस्टों ने रोष मार्च भी निकाला।

रूरल फार्मेसी ऑफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गुरदीप सिंह कलेर व वाइस चेयरमैन कमलजीत सिंह चौहान ने प्रदर्शन के दौरान फेसबुक पर लाइव होकर कैप्टन सरकार से अपना वायदा करने की मांग की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह जमीनी हकीकत नहीं देख पा रहे। कोरोना महामारी के बीच फ्रंट पर आकर काम कर रहे कर्मचारी पिछले पच्चीस दिन से संघर्ष कर रहे हैं, पर सरकार इसे लेकर गंभीर नहीं। मुख्यमंत्री द्वारा दो साल पहले कच्चे मुलाजिमों को रेगुलर करने के लिए बनाई गई सब कैबिनेट कमेटी को पुन: उजागर करके फेसबुक व टीवी चैनलों पर कच्चे मुलाजिमों को रेगुलर करने के बारे में कहा जा रहा है। जो सब कमेटी पिछले दो वर्षों में इस संबंधी एजेंडा कैबिनेट में पेश नहीं कर सकी, वह अब क्या करेगी। समूह कर्मचारी पिछले चौदह साल से कांट्रेक्ट में काम कर रहे हैं। वेतन भी कम है। यदि सरकार अब भी उनकी बात नहीं सुनती तो संघर्ष तेज किया जाएगा। इस अवसर पर मनीष कुमार, सुखराज सिंह, सुखजिदर सिंह, प्रदीप कुमार, पदीप कुमार, सुखजिदर कौर, हरप्रीत कौर, दलबीर सिंह आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!