विपिन कुमार राणा, अमृतसर :

लोकसभा चुनाव में भाजपा-शिअद प्रत्याशी हरदीप सिंह पुरी को अंबरसरिओं ने बेशक सांसद के रूप में अस्वीकार कर दिया, लेकिन अब मोदी सरकार में मंत्री पद मिलने के बाद अंबरसरियों को आस है कि पुरी शहर का विकास करेंगे। पुरी को शहरी विकास, सिविल एविएशन और इंड्रस्टी व कॉमर्स विभाग दिए गए हैं, ये सभी सीधा अमृतसर के हितों को प्रभावित करते हैं। हालांकि पुरी समय-समय पर सोशल मीडिया के जरिये कहते रहे कि वह शहर की चिता करेंगे, लेकिन उन्हें हराने वालों के साथ वह कितना खड़ा होते हैं, यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

पुरी के मंत्रालयों का शहर के लिए मायने..

-स्मार्ट सिटी : शहरी विकास मंत्रालय का यह अहम प्रोजेक्ट है। शहर में इसकी गति धीमी चल रही है। प्रोजेक्ट के तहत मल्टी स्टोरी कार पार्किंग, सारी स्ट्रीट लाइट एलईडी में परिवर्तित करना, पूरे शहर में सीसीटीवी कैमरे, पार्कों की ब्यूटीफिकेशन, वाल्ड सिटी में सौ फीसद सीवरेज व पानी जैसे प्रोजेक्ट प्रस्तावित है। ऐसे में शहर की पुरी से उम्मीद ओर बढ़ जाती है।

-हृदय प्रेजोक्ट : हेरिटेज सिटी डेवलपमेंट एंड एगुमेंटेशन योजना यानी हृदय प्रोजेक्ट के तहत श्रीदरबार साहिब को जाने वाले रास्तों का ब्यूटीफिकेशन, डीसी काम्पलेक्स का निर्माण, 40 खूह व गोलबाग का सौंदर्यकरण जैसे काम हुए। भविष्य में भी इसके तहत शहर में विकास के बहुत से काम प्रस्तावित है।

-जलियांवाला बाग का सुंदरीकरण : जलियांवाला बाग के शताब्दी वर्ष को लेकर बाग के सुंदरीकरण की योजना बनाई गई है। 19.59 करोड़ के टेंडर लग चुके हैं, जबकि कई प्रोजेक्टों की ड्राइंग तैयार की जा रही है। यह प्रोजेक्ट भी सीधा पुरी के मंत्रालय से संबंधित है।

-एयरपोर्ट : श्रीगुरुरामदास जी अंतररा‌र्ष्टीय एयरपोर्ट पर अंतरराष्ट्रीय सुविधाओं के अलावा अभी बहुत कुछ होना बाकी है। इंफ्रास्ट्रक्चर का काम जारी है। सीधी अंतररा‌र्ष्टीय व घरेलू फ्लाइटों को लेकर काम चल रहा है और कॉमर्शियल कारगो का काम भी बढ़े, इसकी भी चिता हो रही है। ऐसे में पुरी का इसे लेकर विजन बहुत महत्वपूर्ण भूमिका इसके विस्तार में अदा करेगा।

-इंड्रस्टी व कॉमर्स : इस बार पुरी को मिला इंड्रस्टी व कासर्म मंत्रालय का प्रभाव भी शहर विशेषकर सीमांत क्षेत्रों को खासा प्रभावित करता है। शुरू से ही बार्डर एरिया में इंड्रस्टी लगाने की मांग उठती रही है और नेता इसकी हामी भरते रहे है। पुरी को विभाग मिलने के बाद क्या होगा, इस पर उद्योगपतियों की निगाहें टिकी हुई है। विजनरी इंसान पीठ नहीं दिखाएंगे : मरवाहा

पुरी विजनरी इंसान हैं। वह शहरवासियों को पीठ नहीं दिखाएंगे। चुनाव के बाद ही उन्होंने कह दिया था कि वह अमृतसर की चिता भी करेंगे और यहां आते-जाते भी रहेंगे। एक रात मुदल रहने के बाद उन्होंने उसका नक्शा बदल दिया था। अब बारी अमृतसर की है। गुरुनगरी के प्रति वह अपने दायित्व का निर्वाह करेंगे।

-राजिदर मरवाहा, प्रधान, शिअद ट्रेड सेल माझा जोन।

इंड्रस्टी के लिए संजीवनी साबित होंगे पुरी : डालमिया

बार्डर एरिया इंड्रस्टी आज संकट के दौर से गुजर रही है। शहर की आर्थिकता को पटरी पर लाने के लिए बार्डर एरिया इंड्रस्टी को अपने पैरों पर खड़ा करना बहुत जरूरी है। पुरी से मिलकर बार्डर एरिया इंड्रस्टी के लिए विशेष पैकेज की मांग की जाएगी, ताकि उद्योग प्रफुल्लित हो सके। उन्हें उम्मीद है कि इंड्रस्टी के लिए पुरी संजीवनी साबित होंगे।

-कमल डालमिया, चेयरमैन फोकल प्वाइंट इंड्रस्टी एसोसिएशन

शहर का होगा कायाकल्प : खोसला

चाहे अमृतसर के लोगों ने पुरी को यहां से हरा दिया है, पर अमृतसर को लेकर जिस तरह की चिता उनके मन में है, उसका लाभ शहर को मिलेगा और यहां का कायाकल्प होगा। जिन मंत्रालयों का पुरी को प्रभार सौंपा गया है, वह सीधे तौर शहर को प्रभावित करते है। उनका एक एक कदम शहर की बेहतरी की तरफ ले जाएगा और उम्मीद है कि जिस अमृतसर की सभी ने कल्पना की है, वैसा ही शहर बनेगा।

-संदीप खोसला, प्रधान, बलकला इंड्रस्टी वेलफेयर एसोसिएशन

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!