जागरण संवाददाता, अमृतसर : यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे ने स्टेशन पर काम करने वाले कुल्लियों को क्यूआर कोड लगे आइडी कार्ड देने की योजना बनाई है। इस सुविधा को कुछ स्टेशनों पर शुरू कर दिया गया है। बहुत जल्द अमृतसर में भी काम करने वाले रजिस्ट्रड कुल्लियों को यह आइ कार्ड दिए जाने है। इस कोड को मोबाइल पर स्कैन कर यात्रियों को कुल्लियों के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी कि उसका नाम क्या है, मोबाइल नंबर क्या है और आइडी प्रूफ और लाइसेंस नंबर क्या है। इससे यात्रियों को किसी भी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। क्योंकि अक्सर यात्रियों को मिस बिहेव और ज्यादा पैसे लेने वाली मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। मगर अब किसी भी तरह की मुश्किल होने पर कुल्ली की डिटेल निकाल कर उच्च अधिकारियों को शिकायत भी कर सकते है।

मौजूदा समय में कुल्ली की बाजू पर एक बिल्ला लगा होता है। जिस पर रेलवे से जारी एक नंबर लिखा रहता है। बहुत बार फर्जी कुल्ली भी नकली बिल्ला लगाकर स्टेशन पर पहुंच जाते है और यात्रियों से तय रेट से अधिक पैसे वसूल लेते है।

भीड़ में अलग होने पर भी नहीं होगी मुश्किल:

रेलवे स्टेशन पर भीड़ ज्यादा होने के कारण कई बार यात्री और कुल्ली इधर-उधर हो जाते है। मगर क्यूआर कोड पता होने पर इस समस्या से भी छुटकारा मिल जाएगा। क्योंकि क्यूआर कोड को स्कैन कर तुरंत कुल्ली को खोजा जा सकता है। वह चाहे तो मोबाइल पर फोन कर लें या फिर कुल्लियों के बने दफ्तर में जाकर संपर्क कर सकते है। इसके अलावा शक या दुविधा जैसी समस्या पूरी तरह से खत्म हो जाएगा। जब भी यात्री कुल्ली हायर करेंगे तो उसे केवल सीट नंबर व कोच नंबर बताना होगा। वह अपने-आप सामान लेकर उस बर्थ में पहुंच जाएगा।

क्यूआर कोड पर काम हो रहा है। जल्द ही अमृतसर के कुल्लियों को क्यूआर कोड वाले आइडी कार्ड जारी कर दिए जाएंगे। इस योजना को लागू करने के लिए अभी रेलवे बोर्ड से अप्रूवल उनके पास आनी बाकी है।

अमृत सिंह, डायरेक्टर, रेलवे स्टेशन

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!